यूपी की सहायक अध्यापक भर्ती रद्द होने की कगार पर,बिना परीक्षा दिए ही चयनित हो गए 16 अभ्यर्थी

जांच में जो गड़बड़ी सामने आ रही है वह काफी चौंकाने वाली है. जौनपुर में 16 ऐसे अभ्यर्थी मिले, जिन्होंने परीक्षा ही नहीं दी और चयनित हो गए.

उत्तर प्रदेश सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा की कॉपियों में नंबर में छेड़छाड़ का मामला सामने आने के बाद हाईकोर्ट सख्त हुआ है। हाईकोर्ट की सख्ती के बाद सरकार ने सभी अभ्यर्थियों की कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन कराने का ऐलान किया है।

सोमवार को जांच कमेटी अध्यक्ष संजय आर भूसरेड्डी ने सभी कॉपियों की दोबारा मूल्यांकन का फैसला लिया। इस फैलसे से धांधली से चयनित अध्यापकों पर तलवार लटकने लगी है, जबकि चयन से वंचित हजारों अभ्यर्थियों को नियुक्ति का मौका मिलेगा, जिसके बाद माना जा रहा है कि धांधली से चयनित सहायक अध्यापकों की नौकरी जा सकती है।