भाजपा विधायक पप्पू भरतौल पर मोहर्रम जुलूस रोकने, भड़काऊ भाषण देने में बलवे के दो मुकदमे

बिथरी से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल पर मोहर्रम का जुलूस रोकने और भड़काऊ भाषण देने के मामले में दो मुकदमे दर्ज किये गये हैं। पुलिस ने उनके बेटे विक्की भरतौल और ब्लॉक प्रमुख का चुनाव लड़ चुके समर्थक गौरव सिंह अरमान को भी बलवा, मारपीट, 7 क्रिमिनल ला अमेंडमेंट एक्ट समेत कई गंभीर धाराओं में आरोपी बनाया है।

खजुरिया में रास्ता रोकने और नकटिया पर ताजियेदारों के द्वारा हाईवे जाम करने के मामले में कुल 5 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। कैंट इंस्पेक्टर देवेन्द्र कुमार सिंह के द्वारा दर्ज कराई गई रिपोर्ट में विधायक पप्पू भरतौल, उनके बेटे विक्की भरतौल, गौरव सिंह अरमान समेत अन्य लोगों पर आरोप है कि उन्होंने लाईसेंसी बंदूका लहराकर सरकारी कार्य में बाधा डाली, लोकसेवकों पर हमला करना, जान से मारने की धमकी देना, लोक व्यवस्था भंग करना व क्षेत्र में भय व आतंक का माहौल पैदा किया गया है।

गौरतलब है कि मोहर्रम पर ताजियों के जुलूस को लेकर शुक्रवार को बिथरी और कैंट में जमकर बवाल हुआ था। दरअसल, सावन में कांवडय़ात्रा रोकने से उमरिया, कलारी और खजुरिया ब्रह्मनान गांव में टकराव के हालात थे। कांवड़ यात्रा रोकने के बदले के तौर पर कलारी में ताजियों का जुलूस रोका गया।

शुक्रवार को खजुरिया ब्राहमनान में ताजियों का जुलूस रोकने के लिए रास्ते में ट्रालियां खड़ी कर दी गईं। यह भनक लगते ही एडीजी प्रेम प्रकाश और एसएसपी मुनिराज ने भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए थे। जेसीबी रास्ते में खड़ी ट्रालियों को खेतों में पलटवाकर रास्ता साफ करवाया गया। गांव वालों के विरोध पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। 16 लोगों को हिरासत में ले लिया गया। मौके पर बिथरी विधायक पप्पू भरतौल भी पहुंच गए थे।

जहां विधायक की पुलिस अधिकारियों के साथ जमकर नोकझोंक हुई थी। इसके बाद विधायक अपने गांव भरतौल पहुंचे तो ताजियों का जुलूस उनके आफिस के सामने से गुजर रहा था। समर्थकों ने यहां भी ताजियों का जुलूस लौटा दिया। इसबीच कैंट इंस्पेक्टर देवेन्द्र कुमार सिंह वहां पहुंच गये।

थाना कैंट में भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल, उनके बेटे विक्की भरतौल, विधायक के दाहिना हाथ व ब्लाक प्रमुखी का चुनाव हार चुके गौरव सिंह अरमान, विजय यादव और विनोद दिवाकर समेत 25अज्ञात के खिलाफ बलवा, जान से मारने की धमकी, लाईसेंसी असलाह लहराना, सरकारी काम में बाधा डालना, शांति व्यवस्था बिगाडऩे समेत अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।