UP: पुलिस कार्रवाई के बाद दहशत, उमरिया के सभी स्कूलों में सन्नाटा पसरा

बिथरी विधान सभा के उमरिया गांव में कल हुई पुलिस की कार्रवाई के बाद दहशत पसरी हुई है। आलम यह है कि प्राथमिक स्कूल उमरिया में सोमवार को एक भी बच्चा नहीं पहुंचा। हेडमास्टर सिराज अहमद ने सुबह सुबह आकर स्कूल को खोला। उनके साथ ही पूरा स्टाफ भी स्कूल में पहुंच गया। सारा स्टाफ तब हैरान रह गया जब 605 के 605 बच्चे अनुपस्थित हो गए। मॉडल स्कूल के रूप में चयनित उमरिया के इस विद्यालय में रोजाना 400 से 450 बच्चे आते हैं।

हेड मास्टर सिराज अहमद ने बताया कि रविवार को हुई पुलिस की कार्रवाई के बाद से गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। आंगनबाड़ी केंद्र पर भी सोमवार को ताला लगा रहा।

बच्चों के नहीं आने के कारण मिड-डे-मील भी नहीं बनवाया गया। स्कूल में तैनात महिला शिक्षक भी इस सन्नाटे में खुद को असुरक्षित महसूस कर रही थी। बगल में ही बने जूनियर हाई स्कूल का भी यही आलम था। वहां भी एक भी बच्चा नहीं पहुंचा।जूनियर विद्यालय की प्रधानाध्यापक कहकशां नाजली ने बताया कि सुबह से स्कूल में बैठे हैं। कोई छात्र आया ही नहीं।

कल हुई पुलिसिया कार्रवाई

मुस्लिम बहुल उमरिया गांव पुलिस की दबिश के बाद उजाड़ हो गया है। गांव में दाखिल होते ही घरों के टूटे दरवाजे और खाली मकान कुछ देर पहले हुए पुलिस के तांडव की गवाही दे रहे हैं। यहां आधे से ज्यादा घरों में ताले लटके मिले। पुलिस की कार्रवाई से खौफजदा लोग गांव से पलायन कर गए हैं।

जब कैमरे की फ्लैश चमकने लगीं तो कुछ महिलाएं अंधेरों से निकलकर सामने आईं। कोई रोते हुए अपने बेटे को तलाश रही थी, तो कोई पति को। उन्हें नहीं पता कि उनके अपनों को पुलिस उठा ले गई है या वे डरकर कहीं जा छिपे हैं।

जब कैमरे की फ्लैश चमकने लगीं तो कुछ महिलाएं अंधेरों से निकलकर सामने आईं। कोई रोते हुए अपने बेटे को तलाश रही थी, तो कोई पति को। उन्हें नहीं पता कि उनके अपनों को पुलिस उठा ले गई है या वे डरकर कहीं जा छिपे हैं।