कार्यकर्ता महाकुंभ: 10 का दम फुस्स, कुर्सियां भी खाली रह गईं | 

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने 25 सितम्बर को भोपाल में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन को विश्व का सबसे बड़ा राजनीति कार्यक्रम बताया था। दावा किया गया था कि इसमें 10 लाख कार्यकर्ता भाग लेंगे परंतु यह दावा तो फुस्स हो गया। कार्यक्रम स्थल पर 5 लाख लोग भी नजर नहीं आए। हालात यह थे कि कुछ जिलों के लिए आरक्षित कुर्सियां तो खाली ही रह गईं। महिलाओं के लिए आरक्षित कुर्सियां भी खाली नजर आईं।
एयरपोर्ट से जंबूरी मैदान तक हेलीकॉप्टर उड़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा के कार्यकर्ता महाकुंभ में शामिल होने के लिए मंगलवार को भोपाल पहुंचे। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया। इसके बाद तीनों एक ही हेलिकॉप्टर से जंबूरी मैदान पहुंचे। चुनावी माहौल में अक्सर ऐसी यात्राओं पर रोड-शो हो जाया करते हैं परंतु इस बार ऐसा नहीं हुआ। शायद भाजपा को उम्मीद नहीं थी कि भोपाल की जनता मोदी-शाह का एतिहासिक स्वागत करेगी।

ना 12000 बसें, ग्वालियर वाली ट्रेन भी खाली आई
भाजपा ने इस कार्यकर्ता महाकुंभ के लिए 9 स्पेशल ट्रेनें चलाईं थी। इनमें से ग्वालियर से आने वाली ट्रेन में करीब आधी सीटें खाली थीं। बता दें कि प्रत्येक ट्रेन में 20 बोगियां थीं। 10 स्लिीपर और 10 जनरल। विजय राघवगढ़ से आई स्पेशल ट्रेन में भाजपा के कार्यकर्ता कम, मजदूर और किसान ज्यादा थे। हालांकि ट्रेन फुल थी।