अगर झूठे वादे करने वाले दलों की मान्यता रद्द होनी है तो शुरुआत बीजेपी से हो: शिवसेना

मुंबई। शिवसेना ने चुनाव आयोग के बयान का ज़िक्र करते हुए कहा है कि यदि झूठे वादे करने वाले राजनैतिक दलों की मान्यता रद्द होनी चाहिए तो इसकी शुरुआत बीजेपी से हों क्यों कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से 101 वादे किये गए थे लेकिन एक भी वादा पूरा नहीं किया गया।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि बीजेपी का असली चेहरा अब लोगों के सामने आ चुका है। संजय राउत ने कहा कि अगर महाराष्ट्र चुनाव आयोग का ये कहना है कि झूठे वादे करने वाले राजनीतिक दलों को अवैध करना चाहिए तो बीजेपी वो पहली पार्टी होगी। उन्होंने कहा कि आप देख सकते हैं कि बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में जितने भी वादे किए उसे निभाने में नाकाम रही।

राउत ने कहा, पेट्रोल और डीजल के दामों में आग लगी है। घरेलू गैस के दामों में हर एक दिन इजाफा हो रहा है। बीजेपी सरकार 370 का मुद्दा हो या भ्रष्टाचार का मुद्दा हर तरफ नाकामी देखने को मिल रही है।

इससे पहले शिवसेना सांसद ने राफेल विमान डील पर मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए राफेल डील को बोफोर्स का बाप करार दिया।

पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में राउत ने कहा कि जिन लोगों ने बोफोर्स सौदे में कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के रिश्तेदार पर 65 करोड़ की घूस लेने का आरोप लगाया था वे अब सत्ता में हैं। ‘‘आज उन पर राफेल विमान सौदे में 700 करोड़ रुपये की घूस लेने का आरोप है। राफेल बोफोर्स का बाप है।’’

गौरतलब है कि बीजेपी की सहयोगी पार्टी होने के बावजूद शिवसेना बीजेपी और मोदी सरकार पर रह रह कर हमले कर रही है। शिवसेना के मुखपत्र सामना के सम्पादकीय में भी मोदी सरकार पर कई बार निशाना साधा गया है।

इतना ही नहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और पार्टी के सांसद संजय राउत भी देश में बेरोज़गारी, महंगाई और राफेल जैसे मुद्दे पर बीजेपी और मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा करते रहे हैं।