वाह री यूपी पुलिस ! बड़े अधिकारी का एक बैग खोया तो मिनटों में 3 बैग बरामद, एक भी नहीं निकला अफसर का

बड़े अधिकारी का एक बैग खोया तो यूपी पुलिस ने मिनटों में किया 3 बैग बरामद

लखनऊ नगर निगम के साथ एक करार करने पहुंचे गेल इंडिया के मुख्य महाप्रबंधक का एक बैग चोरी हुआ, तो लखनऊ पुलिस ने महज 10 मिनट में ही 3 बैग बरामद कर उनके सामने रख दिया। दिलचस्प बात ये है कि तीनों में से कोई भी बैग अधिकारी का नहीं था।

नवजीवन की खबर के मुताबिकउत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की पुलिस कितनी चुस्त-दुरुस्त है इसका सबूत तो आए दिन होने वाले एनकाउंटर से मिलता ही रहता है। लेकिन यागी सरकार की पुलिस करामाती भी है, इसका पता बीते दिनों लखनऊ में उस समय चला जब एक बड़े अधिकारी का बैग चोरी हो गया और यूपी पुलिस ने महज 10 मिनट में ही तत्परता दिखाते हुए 3 बैग बरामद कर उनके सामने रख दिए, लेकिन उनमें से कोई भी बैग अधिकारी का नहीं निकला।दरअसल बीते दिनों गेल इंडिया के मुख्य महाप्रबंधक अनूप गुप्ता लखनऊ नगर निगम के साथ एक करार के लिए एमओयू पर साइन करने लखनऊ आए थे। 2 करोड़ के एमओयू पर साइन करने के बाद अनूप गुप्ता जैसे ही कार्यक्रम स्थल के बाहर अपनी कार में पहुंचे तो उनका बैग गायब था। बैग में रिटर्न टिकट के साथ 35 हजार रुपये नकद भी थे। बड़े अधिकारी का बैग चोरी होने की खबर जैसे ही फैली सबके हाथ-पांव फूल गए। लखनऊ के मेयर से लेकर तमाम अधिकारियों ने पुलिस के बड़े अधिकारियों को फोन घनघनाने शुरू कर दिए। फिर क्या था, लखनऊ पुलिस ने इसे नाक का सवाल बना लिया और बैग ढूंढने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी। लेकिन इस चैलेंज में यूपी 100 और हजरतगंज पुलिस ने बाजी मारते हुए महज 10 मिनट में 3 बैग बरामद कर अधिकारी के सामने रख दिए।लेकिन मामला उस वक्त दिलचस्प हो गया जब अधिकारी के सामने रखे गए तीनों बैग में से कोई भी उनका नहीं निकला। इसके बाद नगर आयुक्त की पहल पर अधिकारी के वापस लौटने की व्यवस्था कराई गई। नगर आयुक्त के मुताबिक अनबप गुप्ता निजी ट्रेवल एजेंसी की गाड़ी से लखनऊ आए थे। उन्होंने कहा कि मामले की सूचना पुलिस को दे दी गई है और उन्हें वापस भेजने की व्यवस्था भी करवायी गयी है।

हाल ही में लखनऊ में ऐप्पल के एक अधिकारी की पुलिस की गोली से हुई मौत के मामले को लेकर यूपी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए जा रहे हैं। ऐसे में अब राजधानी लखनऊ में सरकारी कार्यक्रम के बाहर से एक बड़े अधिकारी के बैग चोरी होने और महज 10 मिनट में पुलिस द्वारा एक के बदले 3 बैग बरामद कर लेना यूपी पुलिस की कार्यशैली की कलई खोलने के लिए काफी है। अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि अधिकारी का बैग कहां है और पुलिस जो 3 बैग ढूंढकर लाई है वे आखिर किसके हैं।