यूपी: फर्जी मार्कशीट लगाकर नौकरी कर रहे 9 टीचरों के खिलाफ दर्ज हुई FIR

कौशांबी। उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में फर्जी मार्कशीट लगाकर नौकरी करने का मामला सामने आया है। जिले के विभिन्न विद्यालयों में नौकरी कर रहे टीचरों के शैक्षिक दस्तावेज फर्जी मिलने पर एबीएसए ने मामले की जांच शुरू की थी। जांच 9 टीचरों के दस्तावेज फर्जी पाये गए। शैक्षिक दस्तावेज फर्जी मिलने पर एबीएसए ने मंझनपुर और करारी थाने में जालसाजी का मुकदमा दर्ज कराया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वर्ष 2011 में शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) की फर्जी डिग्री लगाकर नौ लोग मंझनपुर तहसील क्षेत्र के विभिन्न विद्यालयों में शिक्षक बन गए थे। 2014 में इन लोगों को तैनाती मिल गई। उसके बाद इनकी डिग्री फर्जी होने की शिकायत हुई तो विभाग ने जांच शुरू कर दी। बीएसए ने जांच के लिए प्रमाण पत्रों को संबंधित विभाग में भेजा। अगस्त 2018 में शिक्षकों की सत्यापन रिपोर्ट आई तो हड़कंप मच गया।

एबीएसए मंझनपुर डॉ. अविनाश सिंह ने बताया कि मालती देवी, अवधेश सिंह, चंद्रशेखर, रमाशंकर भारतीय, सुरेंद्र कुमार पटेल, भरत सिंह, अनिल कुमार सिंह, राम अवतार और कैलाश नाथ के दस्तावेज फर्जी पाये गए है। दस्तावेज फर्जी पाये जाने के बाद इस टीचरों के खिलाफ मंझनपुर और करारी थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। अभी कुछ शिक्षक बचे हुए हैं। उनके खिलाफ भी जल्द मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। वहीं पांच शिक्षकों ने विभाग की कार्रवाई का विरोध किया है। उनका कहना है कि उनके दस्तावेज की दोबारा जांच हुई है। जिसमें उनकी डिग्री सही होने की बात कही गई है।