यूपी शिक्षक भर्ती: हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी, फैसला सुरक्षित

पिछले दो माह से चल रही 68500 शिक्षक भर्ती मामले की सुनवाई आज खत्म हो गयी। कोर्ट ने सभी पक्षो की बहस और लिखित सबमिशन लेने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया।

आज इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ में जस्टिस इरशाद अली की एकल पीठ में 68500 शिक्षक भर्ती धांधली मामले में दर्जनों याचिकाओं की सुनवाई हुई।
जैसा कि 08 अक्टूबर की सुनवाई में कोर्ट ने सभी पार्टियों से रिटिन सबमिशन मांगने के साथ राज्य सरकार का अंतिम सबमिशन मांगा था। आज सभी पार्टियों ने अपनी लिखित बहस दाखिल कर दी। सरकार की ओर से भी अपना अंतिम सबमिशन दाखिल करते हुए कहा गया कि 68500 शिक्षक भर्ती में कोई भ्रष्टाचार नही हुआ है सिर्फ थोड़ी बहुत मूल्यांकन में कमियां हुई हैं जिनकी जांच प्रक्रिया जारी है। सरकार किसी भी प्रकार की SIT या CBI जाँच नही चाहती। कुल मिलाकर भर्ती में भ्रष्टाचार की जांच होगी या भर्ती रद्द होगी इस पर कोर्ट को फैसला करना है।

पैरवीकार रिज़वान अंसारी ने बताया कि कोर्ट से निश्चित रूप से हमें न्याय मिलेगा। कोर्ट का फैसला भर्तियों में हो रहे भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के लिए एक सबक होगा।आज हुई अंतिम सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा गया है जिसे कोर्ट आदेश जारी कर सुनाएगी। इस मामले पर एक लाख अभ्यर्थियों का भविष्य निर्भर करता है।