फ्लिपकार्ट और अमेजॉन मना रहे दीवाली – बाजार की दुकानें ग्राहक का मुंह ताक रही

ऑनलाइन सेल से दुकानों में बिखरा सन्नाटा

नई दिल्ली (ईएमएस) । ऑनलाइन मार्केट पर भारी डिस्काउंट के चलते ग्राहक घर के सामान से लेकर अपनी जरूरत की सभी चीजों के लिए अमेजॉन और फ्लिपकार्ट की ओर दिलचस्पी दिखा रहे हैं, यहां अच्छे ऑफर और भारी डिस्काउंट दिये जा रहे हैं, जिसके चलते ऑफलाइन रिटेलर्स का व्यापार ठंडा पड़ गया है।

महानगरों में दुकान चलाने वाले कारोबारियों को फेस्टिवल सीजन का इंतजार रहता है। लेकिन ऑनलाइन सेल में भारी भरकम डिस्काउंट के चलते इस बार दुकान से ग्राहक गायब हैं। फ्लिपकार्ट, अमेजॉन जैसी कंपनियां अभी से दीवाली मना रही हैं और बाजार की दुकानें ग्राहक का मुंह ताक रही हैं।

दुकानदारों का कहना हैं कि डिस्काउंट और बड़ी कंपनियों के आपस में टाईअप से ऑनलाइन शॉपिंग में ऐसे ऑफर्स मिल रहे हैं जिनसे मुकाबला करना मुश्किल है। नतीजा, ऑनलाइन शॉपिंग में 40-90 फीसदी के डिस्काउंट ने ऑफलाइन रिटेलर्स के कारोबार में 25-30 फीसदी की चपत लगा दी है।

दुकान का किराया, बिजली और कर्मचारियों का खर्चा उठाने के बाद रिटेल दुकानदारों के लिए भारी डिस्काउंट दे पाना मुश्किल है। जबकि आनलाइन कंपनियां भारी डिस्काउंट के साथ ग्राहकों के घर तक सामान पहुंचा देती हैं। ऐसे में ऑफलाइन रिटेलर्स को अपनी दिवाली, काली ही नजर आ रही है।

लगतार घट रही है यात्री वाहनों की बिक्री

न सिर्फ रिटेल कारोबार, ऑटोमोबाईल क्षेत्र में भी हालात मंदी के हैं। यात्री वाहनों की बिक्री लगातार घटती जा रही हैं।

पिछले 3 माह में यात्री वाहनों की बिक्री में लगातार कमी होने से वाहन उद्योग मंदी का सामना कर रहा है। पिछले साल सितंबर माह में 3 लाख 10041 वाहन बिके थे इस वर्ष घटकर 2 लाख 92658 रह गए हैं। लगभग 5.61 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज हुई है।

भारतीय ऑटो उद्योग की शीर्ष संस्था सियाम के अनुसार यात्री वाहनों में कार यूटिलिटी व्हीकल और वैन शामिल हैं। पिछले 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद लगातार 3 महीने बिक्री में तेजी देखने को मिली थी लेकिन उसके बाद से लगातार वाहनों की बिक्री घटती जा रही है। उन्होंने कहा कि वाहनों की बिक्री को लेकर 9 से 10 फ़ीसदी इजाफा होने का अनुमान था। वाहनों की बिक्री घटने से अब वाहन उद्योग चिंतित है।