यूपी: पुरानी पेंशन बहाली के लिए अब तीन दिन तक रहेगी हड़ताल, काम नहीं होगा

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर प्रदेश में 25 से 27 अक्टूबर तक होने वाली तीन दिन की हड़ताल की तैयारी के लिए कर्मचारियों व शिक्षकों की महाबैठक 20 अक्टूबर को राजधानी में होगी…
लखनऊ (जेएनएन)। पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर प्रदेश में 25 से 27 अक्टूबर तक होने वाली तीन दिन की हड़ताल की तैयारी के लिए कर्मचारियों व शिक्षकों की महाबैठक 20 अक्टूबर को राजधानी में होगी। उप्र कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच के बैनर तले होने वाली इस बैठक में रेलवे, आयकर व पोस्टल जैसे केंद्रीय विभागों के साथ राज्य कर्मचारियों व शिक्षकों के दो सौ से अधिक संगठनों के पदाधिकारी शामिल होंगे।

मंच के संयोजक हरिकिशोर तिवारी और अध्यक्ष डॉ.दिनेश चंद शर्मा ने बताया कि यह महाबैठक राजभवन के सामने स्थित डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ कार्यालय में होगी। पदाधिकारियों ने बुधवार को कहा कि पुरानी पेंशन बहाली के लिए गठित मंच किसी भी तरह से सरकार के बहकावे में आने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का पैड अवैध रूप से इस्तेमाल करने वालों के साथ बैठक कर अप्रत्यक्ष रूप से कर्मचारियों के साथ धोखा कर रही है। मंच पदाधिकारियों ने सरकार से नई पेंशन योजना की समस्याएं समझ कर समाधान की मांग की है।

शामिल होंगे यह संगठन

20 अक्टूबर को होने वाली महाबैठक में उप्र सूचना निदेशालय कर्मचारी संघ, उप्र समाज कल्याण सुपरवाइजर परिषद, राजकीय औद्यागिक प्रशिक्षण संस्थान कर्मचारी संघ, राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं संबद्ध कर्मचारी संघ, उप्र प्रादेशिक पूर्व माध्यमिक शिक्षणेत्तर कर्मचारी वेलफेयर संघ, प्रादेशिक सहायक चकबंदी अधिकारी वेलफेयर एसोसिएशन, उप्र सेतु निगम संयुक्त परिषद, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद, उप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ, उप्र अधिकारी महापरिषद, उप्र राजकीय वाहन चालक महासंघ, उप्र चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ, उप्र एक्स-रे टेक्नीशिएन एसोसिएशन, स्पोटर्स कॉलेज कर्मचारी संघ, उप्र परिवार कल्याण स्वास्थ्य सहायक संघ, उप्र सचिवालय कर्मचारी संघ, फेडरेशन ऑफ फॉरेस्ट एसोसिएशन, संभागीय परिवहन कर्मचारी संघ, राजस्व संग्रह अमीन संघ, यूपी एजुकेशनल मिनिस्टीरियल ऑफीसर्स एसोसिएशन, उप्र विद्यालय निरीक्षक संघ के साथ न्यू ओखला इंडस्ट्रियल एथॉरिटी, गोरखपुर इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट, सतहरिया औद्योगिक विकास प्राधिकरण, उप्र खादी बोर्ड, मंडी परिषद, उप्र बीज प्रमाणीकरण संस्था, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण, उप्र कृषि अनुसंधान परिषद, उप्र गन्ना शोध संस्थान, उप्र प्रदूषण नियंत्रण परिषद, उप्र सैनिक स्कूल, उप्र हिन्दी संस्थान, उप्र उर्दू अकादमी, उप्र सचिवालय सत्कार सेवा, उप्र पंजाबी अकादमी, उप्र सिंधी अकादमी, उप्र नाट्य अकादमी के कर्मचारियों सहित लगभग दो सौ छोटे बड़े कर्मचारी संगठन, एसोसिएशन, महासंघ और परिषद के पदाधिकारी शामिल होंगे।

स्रोत:दैनिक जागरण डॉट कॉम