यूपी: पुरानी पेंशन के लिए हड़ताल पर सरकार सख्त, काम नहीं तो वेतन नहीं

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर प्रदेश में 25 से 27 अक्टूबर तक होने वाली तीन दिन की हड़ताल की तैयारी के लिए कर्मचारियों व शिक्षकों की महाबैठक 20 अक्टूबर को राजधानी में होगी। उप्र कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच के बैनर तले होने वाली इस बैठक में रेलवे, आयकर व पोस्टल जैसे केंद्रीय विभागों के साथ राज्य कर्मचारियों व शिक्षकों के दो सौ से अधिक संगठनों के पदाधिकारी शामिल होंगे। इससे पहले सरकार ने अपनी चाल चल दी है।

योगी सरकार ने हड़ताली कर्मचारियों से वार्ता बेनतीजा रहने के बाद आज गुरुवार को हड़ताली कर्मचारियों पर सख्ती दिखाने का संकेत दे दिया। हड़ताली या सामूहिक अवकाश पर जाने वाले कर्मचारियों को इस अवधि का वेतन नहीं दिया जाएगा। सरकार ने इस अवधि को असाधारण अवकाश में गिनने का आदेश जारी कर दिया है। साथ ही सभी कार्मिकों की सभी प्रकार की छुट्टियां निरस्त कर दी हैं।

सरकार ने इन कर्मचारियों पर सख्ती दिखाने का इरादा जाहिर करते हुए इसके सम्बन्ध मुख्य सचिव ने इस बारे में आदेश जारी कर दिया। मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पांडेय की ओर से जारी आदेश के अनुसार हड़ताल, सामूहिक अवकाश, कार्य बहिष्कार सहित अन्य किसी भी तरीके से नौकरी से गैर हाजिर रहने वाले कर्मचारियों को कार्य नहीं तो वेतन नहीं के सिद्धांत को लागू किया जाएगा।

सरकार पुरानी पेंशन की मांग कर रहे कर्मचारियों को सरकार डरा धमका कर शांत करने के लिए कठोर कदम उठाने जा रही है।