यूपीः हाथरस में आरएसएस के शस्त्र पूजा में जमकर फायरिंग, बीजेपी विधायक के बेटे की गोली से स्थानीय पत्रकार और एक अन्य घायल

हाथरस में आरएसएस के शस्त्र पूजन के दौरान की गई फायरिंग में फोटो पत्रकार को लगी गोली

हाथरस में आरएसएस के विजयदशमी उत्सव में शस्त्र पूजा के दौरान की गई फायरिंग में एक पत्रकार को गोली लग गई है। गंभीर रूप से घायल पत्रकार को अलीगढ़ रेफर किया गया है। बताया जा रहा है कि गोली स्थानीय बीजेपी विधायक के बेटे ने चलाई थी।
उत्तर प्रदेश के हाथरस में आरएसएस के विजयदशमी कार्यक्रम में हुई फायरिंग में एक फोटो पत्रकार को गोली लग गई है। बताया जा रहा है कि गोली स्थानीय बीजेपी विधायक के बेटे ने चलाई है। घटना हाथरस के बागला कॉलेज मैदान में आरएसएस के विजयदशी कार्यक्रम में हुई है। बताया जा रहा है कि विजयदशमी उत्सव के दौरान गैर कानूनी तरीके से हुए शस्त्र पूजन के बाद फायरिंग की गई, जिसमें स्थानीय पत्रकार विनोद शर्मा को गोली लग गई। गोली शर्मा के गले में लगी है। हाथरस में प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए उन्हें अलीगढ़ रेफर किया गया है। बताया जा रहा है कि गोली हाथरस सदर के बीजेपी विधायक हरिशंकर माहौर के बेटे दीपू ने चलाई थी। मिली जानकारी के अनुसाऱ फायरिंग में विधायक के बेटे को भी चोटें आई हैं।

गौरतलब है कि विजयदशमी के कार्यकक्रमों में किसी भी तरह के शस्त्रों के प्रदर्शन और फायरिंग पर रोक है, लेकिन इसके बावजूद आरएसएस के विजयदशमी उत्सव में शस्त्र पूजन के साथ फायरिंग भी की गई। इतना ही नहीं इस कार्यक्रम में शहर के बीजेपी विधायक ना सिर्फ शामिल हुए बल्कि खुद भी उन्होंने शस्त्र चलाए। हालांकि फायरिंग की घटना में फोटो पत्रकार के घायल होने के बाद विधायक हरिशंकर माहौर ने स्वीकार किया है कि आरएसएस के विजयदशमी उत्सव में शस्त्र पूजन के दौरान फायरिंग की गई, जिसमें उनके बेटे ने भी फायरिंग की। बीजेपी विधायक ने यह भी माना है कि फायरिंग के दौरान बंदूक के ऊपर का प्लास्टिक फट गया, जिसमें उनका बेटा और फोटो पत्रकार घायल हुए हैं।

वहीं विजयदशमी कार्यक्रम में शस्त्र पूजन और फायरिंग के लिए स्थानीय प्रशासन से कोई अनुमति नहीं लेने की बात सामने आई है। हाथरस के सदर एसडीएम ने इसकी पुष्टी की है। लेकिन इसके बावजूद मामला सत्तारूढ़ बीजेपी और आरएसएस से जुड़ा होने के कारण पुलिस की भूमिका संदिग्ध है। बडे अधिकारी जहां प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं, वहीं हाथरस के एएसपी का कहना है कि मामले की जांच के बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी। जिससे स्पष्ट पता चलता है कि किस तरह की कार्रवाई होगी।

स्रोत: नवजीवन