खबरनामा: हिंदी अखबारों में खबरों का टोटा, छह साल पुराने बयान पर बवाल को तरजीह, पहले पन्ने पर छापा

हिन्दी अखबारों का हाल और बुरा है। ऐसे में सदाबहार खबरों से काम चलाया जाता है जबकि नौकरी-बेरोजगारी-भ्रष्टाचार की कोई खबर ऐसे मौकों के लिए तैयार रखी जा सकती है। नकारात्मक न छापना हो तो सकारात्मक खबर भी की जा सकती है जिससे लाचारी की जगह तैयारी तो दिखे। पर हिन्दी का पाठक ऐसी कोई अपेक्षा नहीं करता है तो संस्थान भी क्यों खर्च करें या परेशान हों। कुल मिलाकर, आज के हिन्दी अखबारों में कुछ है नहीं। ऐसे में कांग्रेस नेता शशि थरूर का एक छह साल पुराना बयान चर्चा में आया, दिलचस्प है। भाजपा परेशान है तो उसे भी छापा जा सकता था पर पुराना बयान पुराना होता है, रह गया।

मैंने जो अखबार देखे उनमें सिर्फ दैनिक भास्कर ने इसे विस्तार से छापा है। शीर्षक है, “मोदी शिवलिंग पर बैठे बिच्छू जैसे; न हाथ से हटा सकते हैं, न चप्पल से मार सकते हैं : थरूर”। इस तथ्य के साथ कि भाजपा नेता छह साल पुरानी उपमा से भी परेशान हैं। उसपर रविशंकार प्रसाद का हमेशा निकलने वाला गुस्सा फोटो के साथ बॉक्स में है। जो तुलना थरूर की बताई जा रही है वह असल में थरूर ने आरएसएस के किसी अनाम सूत्र के हवाले से कही थी और छह साल पहले ‘कारवां’ पत्रिका में छपी भी थी। दैनिक भास्कर ने इस खबर के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिन्दे की बेटी प्रणीति शिन्दे का बयान भी प्रमुखता से छापा है। बोलीं – मोदी बाबा डेंगू का मच्छर। प्रणीति सोलापुर से कांग्रेस विधायक हैं। बिच्छू पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले, “थरूर पाकिस्तान में होते तो चुप कर दिया गया होता” को भी बॉक्स में छापा है।

दैनिक जागरण में शीर्षक है, “मोदी पर थरूर ने सीमा लांघी, भाजपा ने घेरा”… अखबार ने थरूर के बयान को कोट में लगाया है और उसके नीचे, “माफी मांगे राहुल : भाजपा” शीर्षक से भाजपा का एतराज भी छापा है।

दैनिक हिन्दुस्तान ने दिल्ली से ज्यादा प्रदूषित एनसीआर खबर को लीड बनाया है। फ्लैग है, चिन्ताजनक राजधानी में अब तक की सबसे खराब वायु गुणवत्ता दर्ज, आसमान पर छाई धुंध की मोटी चादर। प्रधानमंत्री के जापान दौरे की खबर यहां भी टॉप दो कॉलम में है। पर थरूर की तुलना की खबर खबरों के पहले पेज पर नहीं है। और चूंकि इस पन्ने पर विज्ञापन बहुत ज्यादा नहीं है इसलिए मैंने अंदर चेक नहीं किया।

नवभारत टाइम्स ने सीने में जलन और आंखों में परेशानी का मौसम आ गया शीर्षक खबर को लीड बनाया है। इसका उपशीर्षक है, स्मॉग की एंट्री, आगे हालात बिगड़ते जाने के आसार। शशि थरूर के बयान, शिवलिंग पर बिच्छू की खबर भी पहले पेज पर है और इसके साथ रविशंकर प्रसाद का बयान प्रमुखता से बड़े अक्षरों में छपा है, राहुल खुद को शिवभक्त बताते हैं …. उनके नेता चप्पल से हमले की बात कर महादेव का अपमान करते हैं।

अमर उजाला में, दिल्ली का दम फूला, साल के सबसे खराब स्तर पर आबोहवा शीर्षक खबर लीड है। उपशीर्षक है, वायु गुणवत्ता सूचकांक 381 पर पहुंचा, दिवाली के बाद हालात और खराब होंगे। जापान दौरे की खबर यहां टॉप बॉक्स है। शीर्षक है, “मोदी भरोसेमंद दोस्त : आबे”। शशि थरूर की खबर खबरों के पहले पेज पर नहीं है और इसपर विज्ञापन ज्यादा नहीं है इसलिए अंदर नहीं देखा।

दैनिक जागरण ने, “मोदी-एबी की मुलाकात से संबंधों को मिली नई उंचाई शीर्षक” से जापान के यामानशी डेटलाइन से प्रेस ट्रस्ट की खबर को लीड बनाया है। इसके मुताबिक जापान दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उनके जापानी समकक्ष शिजो एबी के साथ मुलाकात से दोनों देशों के संबंधों को नई उंचाई मिली है। थरूर के बयान की खबर यहां पांचवें पेज पर है जिसे अखबार ने दूसरे पहले पेज की तरह प्रस्तुत किया है। शीर्षक है, “मोदी पर थरूर ने सीमा लांघी, भाजपा ने घेरा”।

नवोदय टाइम्स ने भी प्रधानमंत्री के जापान दौर की खबर को लीड बनाया है। फ्लैग शीर्षक है, जापान के प्रधानमंत्री का भावुक संदेश। मुख्य शीर्षक है, आबे का आजीवन दोस्ती का वादा। टोक्यो / नई दिल्ली डेटलाइन से प्रकाशित एजेंसी की इस खबर में कहा गया है, “…. जापान-भारत रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ दो दिवसीय शिखर सम्मेलन के पूर्व आबे ने अपने एक संदेश में यह बात कही है। भारतीय समाचार पत्रों में प्रकाशित एक संदेश में उन्होंने कहा …. ।” शशि थरूर के बयान वाली खबर नवोदय टाइम्स में आज दूसरे पेज पर है। अखबार में आज पहला पेज विज्ञापन का है। दूसरे पर थरूर की खबर है और खबरों के पहले पेज पर जापान दौरे की खबर लीड है।

वरिष्ठ पत्रकार और अनुवादक, संजय कुमार सिंह की रिपोर्ट।