SC की नीतीश सरकार को फटकार- ‘शानदार! कैबिनेट मंत्री फरार हैं’

कोर्ट ने एक महीने से भी ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी बिहार सरकार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा को गिरफ्तार रहने के बाद बिहार पुलिस के भी जमकर फटकार लगाई

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में आरोपी और बिहार सरकार में कैबिनेट मंत्री मंजू वर्मा ‘लापता’ हैं. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार के इस खुलासे पर आश्चर्य वयक्त करते हुए प्रशासन को कड़ी फटकार लगाई है. 12 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को जमकर फटकार लगाते हुए बिहार पुलिस के प्रति नाराजगी जाहिर की. बिहार पुलिस पूर्व राज्य कैबिनेट मंत्री मंजू वर्मा को गिरफ्तार करने में नाकाम रही.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक कोर्ट ने पूछा कि आखिर मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में सीबीआई की छापेमारी के दौरान मंजू वर्मा के घर से हथियार मिलने के बाद भी उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया था? जस्टिस लोकुर ने कहा, ‘शानदार! कैबिनेट मंत्री फरार है्ं, बहुत खूब! आखिर यह कैसे हो सकता है कि एक कैबिनेट मंत्री फरार हों और किसी को इसका पता नहीं है कि आखिर वो हैं कहां? क्या इस मामले की गंभीरता आपको समझ आ रही है कि एक कैबिनेट मंत्री फरार हो गई है. बस अब बहुत हो गया.’

ANI

@ANI
“We are quite shocked that former cabinet minister can not be traced by the police for over a month. We would like the police to tell us that how such an important person is not traceable. Director General of Police to appear before us,”says SC & posts the matter for November 27

ANI

@ANI
“Fantastic! cabinet minister (Manju Verma) on the run, fantastic. How could it happen that cabinet minister is absconding and nobody knows where she is. You realise the seriousness of the issue that cabinet minister is not traceable. It’s too much,” observes Justice Madan B Lokur

कोर्ट ने कहा- ‘हम तो यही सुनकर हैरान हैं कि पूर्व मंत्री को पुलिस एक महीने से अधिक समय में भी खोज नहीं पाई है. हम चाहते हैं कि पुलिस हमें बताए कि आखिर इतना महत्वपूर्ण व्यक्ति गायब कैसे हो गया? पुलिस महानिदेशक कोर्ट के सामने हाजिर हों और इसका जवाब दें.’ इसके साथ ही कोर्ट ने बिहार के डीजीपी को 27 नवंबर को कोर्ट में हाजिर होने का हुक्म सुनाया.

मुजफ्फरपुर के होम शेल्टर में मासूम लड़कियों के साथ हैवानियत के मामले में बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंदेश्चर वर्मा ने 29 अक्टूबर को बेगूसराय के कोर्ट में सरेंडर कर दिया था. इस मामले की जांच में सीबीआई ने मंजू वर्मा के ससुराल में छापेमारी की थी जहां से उन्हें 50 कारतूस मिले थे. मंजू वर्मा और उनके पति पर इस मामले में केस दर्ज किया गया था. मंजू वर्मा के पति पर शेल्टर होम मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के साथ कथित तौर पर संबंध होने के आरोप हैं.