टीईटी परीक्षाः प्रदेश भर में पकड़े गए मुन्ना भाई, तो कहीं कॉपी लेकर भागे परीक्षार्थी,

उत्तर प्रदेश में आज आयोजित टीईटी की परीक्षा ने व्यवस्था की एक बार फिर पोल खोलकर रख दी है। लगभग हर जगह से मुन्ना भाई पकड़े गए हैं। मुरादाबाद, प्रयागराज , वाराणसी और चित्रकूट के साथ ही प्रदेश भर में जिन जगहों पर भी परीक्षा हुई वहां से सॉल्वर गिरोह के लोगों के अलावा किसी की जगह परीक्षा देने के मामले में कई लोगों की धरपकड़ की खबर है।

प्रयागराज में रविवार को आयोजित टीईटी परीक्षा में सरायइनायत इलाके के किसान इंटर कालेज सरपतीपुर, परीक्षा केंद्र से ओएमआर की कार्बन कॉपी की प्रति लेकर कई परीक्षार्थी भाग गए। इसके बाद परीक्षा केंद्र पर हड़कंप मच गया। पुलिस को इस घटना की सूचना दी गई।
परीक्षा नियामक प्राधिकारी अनिल भूषण के अनुसार प्रदेश के अधिकांश जिलों में दूसरे की जगह परीक्षा देते मुन्ना भाई पकड़े गए हैं।

मुरादाबाद में भी टेट एक्जाम के दौरान सॉल्वर गिरोह के छह लोगों के पकड़े जाने की सूचना है। जानकारी के अनुसार सचिन पुत्र डालचन्द्र, जितेन्द्र कुमार सैनी पुत्र रामसिंह सैनी, विपिन कुमार पुत्र अतर सिंह, सौरभ अस्थाना पुत्र गोपाल, मिथिलेश पुत्र दामोदर, और सिप्पू उर्फ सिरदारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

चित्रकूट से भी एक शख्स की गिरफ्तारी की गई है जो किसी दूसरे की जगह परीक्षा देने गया था। जानकारी के अनुसार जिले के 11 केंद्रों पर परीक्षा का आयोजन किया गया था जिसमें भरवारी के नेशनल इंटर कॉलेज में परीक्षा के दौरान एक अभ्यार्थी पकड़ा गया जो दूसरे का पेपर दे रहा था।

शिव अवतार ने अनिरुद्ध सिंह को टीईटी परीक्षा में बैठने के लिए 60 हजार रुपए में सौदा किया था। अनिरुद्ध ने शिव अवतार के नाम से आधार कार्ड पहचान पत्र व टीईटी के प्रवेश पत्र में अपनी फोटो दे दी थी। गुप्तचर विभाग को इसकी सूचना मिली और इस तरह से मुन्ना भाई पकड़ा गया। पूछताछ में पता चला है से कई और लोग भी इस गोरखधंधे में लिप्त हैं। पुलिस पूरे गैंग की तलाश में जुटी है।

लाखों में होता था परीक्षा पास कराने का सौदा
वाराणसी के नदेसर स्थित कटिंग मेमोरियल स्कूल में दूसरे की जगह परीक्षा देते एक मुन्ना भाई पकड़ा गया। केंद्राध्यक्ष ने इसकी सूचना पुलिस को दी, मौके पर पहुंची कैंट पुलिस बिहार निवासी युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

टीईटी परीक्षा में हरदोई जिले के विभिन्न परीक्षा केंद्रों से अब तक सात मुन्ना भाई हिरासत में लिए गए हैं। हरदोई में आज 20 परीक्षा केंद्रों पर लगभग 22 हजार परीक्षार्थी बैठे हैं।

उधर, एसटीएफ की बरेली यूनिट ने मुरादाबाद से सॉल्वर गैंग को दबोचा है। कुल 6 लोगो को एसटीएफ ने पकड़ा है। जानकारी मिली है कि टीईटी की दोनों परीक्षाएं पास कराने के लिए इस गिरोह के लोग 12 लाख रुपए लेते थे।

फिरोजाबाद के इस्लामिया कॉलेज में दो फर्जी छात्र परीक्षा देते हुए पकड़े गए। अतुल पुत्र पंचम सिंह के स्थान पर संजीव पुत्र ज्ञानानंद और मनोज कुमार पुत्र शांति के स्थान पर मनोज पुत्र बेताल सिंह परीक्षा दे रहे थे। दोनों को थाने ले जाकर पुलिस पूछताछ कर रही है।

टीईटी 2018 में नकल कराने के वाले पकड़े गए चार लोगों में एक ही साल्वर के चार-चार प्रवेश पत्र भी मिले। फोटो उसकी और आईडी किसी अनिल, रंजीव व अन्य लोगों की थी। एक डायरी भी मिली, जिसमें एक अभ्यर्थी से दस से 12 लाख रुपये का रेट व 50 हजार से ढाई लाख तक एडवांस मिलने का जिक्र भी लिखा था। साथ ही वीडीओ, टीईटी, सीटीईटी, बीटीसी व अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से संबधित परीक्षाओं के कई प्रवेश पत्र बरामद हुए।

परीक्षा केंद्रों में थी बैठने की तैयारी
पुलिस के अनुसार पूछताछ में पता चला कि उनके कई साथी हैं। कौशाम्बी के पिंटू व धाता फतेहपुर के अयोध्या समेत अन्य की तलाश की जा रही है। गिरोह के सदस्यों की परीक्षा केंद्रों पर साल्वर के रूप में बैठने की तैयारी थी