VIRAL ऑडियो में दावा- मोदी जी को कोई सुनने नहीं आ रहा, दारू-साड़ी-पैसा बांटना होगा

यह वायरल ऑडियो मध्य प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष राकेश सिंह और शिवराज सिंह के सबसे करीबी माने जाने वाले विदिशा प्रत्याशी मुकेश टंडन का बताया जा रहा है।

जनसत्ता ऑनलाइन की खबर के अनुसार मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में जीत की जद्दोजहद के बीच ऑडियो-वीडियो का दौर भी जारी है। कभी शिवराज तो कभी कमलनाथ और कभी कार्यकर्ता या प्रत्याशी चुनावी समर में हर किसी के वीडियो सामने आ रहे हैं। अब एक ऑडियो और सामने आया है जिसने भारतीय जनता पार्टी के खेमे में तहलका मचा दिया है। कांग्रेस ने चुनाव आयोग को शिकायत करते हुए यह ऑडियो सौंपा है। ‘जनसत्ता’ इस ऑडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है लेकिन आयोग को सौंपे गए इस ऑडियो में चौंकाने वाला संवाद सामने आया है।

‘शिवराज के करीबी और पार्टी प्रदेशाध्यक्ष की बातचीत’
शिकायत में किए गए दावे के मुताबिक यह ऑडियो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेहद करीबी माने जाने वाले विदिशा से भाजपा प्रत्याशी मुकेश टंडन और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह के बीच हुई बातचीत का है। इस बातचीत में मोदी की रैली के लिए लोग जुटाने में शराब, साड़ी और पैसे बांटने की जरूरत बताई जा रही है। कार्यकर्ताओं के लिए भी अपशब्दों का इस्तेमाल किया गया है। टंडन ने इसे फर्जी बताकर जांच की मांग की है। वहीं पार्टी की तरफ से अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है।

आयोग को मिली शिकायत के मुताबिक ये है पूरा संवाद
मुकेश टंडन: सर टंडन बोल रहा हूं विदिशा से।
राकेश सिंह: हां टंडन क्या चल रहा है?
टंडन: थोड़ी सी फंड की समस्या आ रही थी। पार्टी फंड से थोड़ी मदद मिल जाती तो।
राकेश सिंह: अरे, तुमको क्या समस्या?
टंडन: बहुत समस्या है सर, (कार्यकर्ता के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल)बिना पैसे के कोई काम ही नहीं करना चाह रहा।
राकेश सिंह: तुम तो हो सक्षम।
टंडन: सक्षम तो हूं सर, मैने डेढ़ करोड़ रुपए अपनी जेब से खर्च कर दिए, लेकिन सर पार्टी फंड से जितना हो जाता।
राकेश सिंह: अरे तुम चुनाव लड़ रहे हो या पैसा बांट रहे हो। 22 तुम्हारे अकाउंट में आ चुके थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने दो भेजे थे और शिवराज जी ने बताया तीन दिए हैं।
टंडन: सर वो तो सब 25 तारीख की सभा है ना मोदीजी की, उसकी तैयारी में ही लग गए। कोई सुनने ही नहीं आना चाह रहा।
राकेश सिंह: वो टेंडर का मिला था तुमको उसका क्या हुआ, नगरपालिका का।
टंडन: आखिरी रात में शराब, पैसा ये बहुत लगेगा सर। बिना उसके कैसे जीत पाएंगे।
राकेश सिंह: चलो करते हैं चर्चा शिवराज जी से, बताता हूं तुमको फिर क्या करना है।
टंडन: सर मुझे तीन करोड़ लगेंगे ही लगेंगे। दारू, पैसा, साड़ी सब करेंगे सर। सीट निकाल लेंगे सर अपनी। बहुत बुरी हालत है, हार जाएंगे सर अपन।
राकेश सिंह: ठीक है करते हैं चर्चा, लेकिन ध्यान रखना। चुनाव लड़ रहे हो, जीत के ही आना।