बीजेपी सांसद ने कहा- राहुल गांधी को सलाम करता हूं, अब तय कीज‍िए फेंकू कौन, पप्‍पू कौन

सिन्हा ने बीजेपी पर कहावत के जरिए करारा हमला और कांग्रेस की सराहना करते हुए कहा कि, ‘ताली कप्तान को तो गाली कप्तान को और गाली कप्तान को तो ताली भी कप्तान को मिलनी चाहिए’।

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिकविधानसभा चुनाव में 5-0 से हारने के बाद भारतीय जनता पार्टी पर अपने भी निशाना साध रहे हैं। पांच में से तीन भाजपाई राज्य को ‘पंजे’ में कर कांग्रेस वाहवाही लूट रही है। वहीं हार के बाद बीजेपी पर हमले तेज हो गए है। भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने हमेशा की तरह इस बार भी पीएम मोदी को निशाने पर लिया है और राहुल गांधी को सलाम किया है। साथ ही कहा है कि अब तय करना चाहिए कि फेंकू कौन है और पप्पू कौन है।

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भाजपा सत्ता से बाहर हो गई है। हार के बाद बीजेपी के ही नेताओं ने पार्टी पर हमला किया। अब भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने बिना नाम लिए पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘मसल पावर, मनी पावर और सूट बूट की सरकार के साथ ईवीएम मशीन ये सारे काम आए है। बड़ी मुश्किल से तीनों राज्य के रिजल्ट आए हैं। इसके पीछे की चाल या जाल लोग अच्छी तरह से समझ गए हैं। ठीक ही किसी ने कहा… यह पब्लिक है… सब जानती है’। सिन्हा ने पूछा, ‘कहां गए हमारे अधिवक्ता, प्रवक्ता और वक्ता? कोई दिखाई ही नहीं पड़ रहे’।

एएनआई से बात करते हुए सिन्हा ने हार पर भाजपा की खिंचाई की और राहुल गांधी की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम का ऐलान करीब एक साल पहले ही हुआ था। एक साल के भीतर अगर ऐसा जबरदस्त, क्रांतिकारी रिजल्ट आया है तो ऐसे आदमी को सलाम करेंगे या नहीं करेंगे। हर जगह उनकी ही बात हो रही है’। सिन्हा ने बीजेपी पर कहावत के जरिए करारा हमला और कांग्रेस की सराहना करते हुए कहा कि, ‘ताली कप्तान को तो गाली कप्तान को और गाली कप्तान को तो ताली भी कप्तान को मिलनी चाहिए’। उन्होंने कहा, ‘सब कहते रहे कि वह (राहुल गांधी) पप्पू हैं। अब करके दिखा दिया। अब तय कीजिए कि पप्पू कौन है और फेंकू कौन है’।

वहीं, विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद मध्यप्रदेश की ग्वालियर लोकसभा सीट से सांसद और संसदीय कार्य मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा था कि, ‘एनडीए की पॉपुलैरिटी अब पहले जैसी नहीं रही। गिरावट आई है। नतीजों में चौंकाने वाली बात नहीं। यह बात हम चुनाव के दौरान भी कहते रहे हैं’। तोमर ने यह बयान मंगलवार से शुरू हुए संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से दिया था।