योगी राज में अयोध्या की प्राचीन मंदिरों के अस्तित्व पर खतरा, निगम का नोटिस, क्या ढहा दी जाएंगी मंदिरें?

अयोध्या नगर निगम के कमिश्नर ने कहा कि मंदिरों और इमारतों के मिलाकों के पास सिर्फ दो रास्ते हैं, या तो इन मंदिरों और इमारतों की हालत को दुरुस्त करें या फिर गिरा दें। उन्होंने कहा कि लोग नगर निगम से भी गिराने के लिए कह सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिस अयोध्या को चमकाने की बात कर रहे हैं। आलमय यह है कि यहां पर कई मंदिरों के साथ पुरानी इमारतें जर्जर हालत में पहुंच गई हैं। इन मंदिरों और प्राचीन इमारतों को ढहाने की नौबत आ गई है। अयोध्या नगर निगम में 176 लोगों को नोटिस जारी कर कहा है, “या तो आप जर्जर मंदिरों और इमारतों को दुरुस्त कराएं या फिर गिरा दें।”

अयोध्या नगर निगम के कमिश्नर ने कहा, “मंदिरों और इमारतों के मिलाकों के पास सिर्फ दो रास्ते हैं, या तो इन मंदिरों और इमारतों की हालत को दुरुस्त करें या फिर गिरा दें। लोग नगर निगम से भी गिराने के लिए कह सकते हैं।”

नगर निगम के कमिश्नर ने आगे कहा, “176 में से 59 लोगों ने जर्जर इमारतों को दुरुस्त करा लिया है। वहीं 6 लोगों ने अपनी इमारतों को ढहा दिया है।”

ऐसे में सवाल यह है कि क्या योगी सरकार के पास प्राचीन मंदिरों को सहेजने के लिए कोई योजना नहीं है। रामनगरी आयोध्या में आखिर यह नौबत आई कैसे, जिसमें मंदिरों को गिराने का चारा सिर्फ बचा है। कुछ लोग अपनी इमारतों को दुरुस्त करा कराकर नगर निगम के डंडे से बच सकते हैं। सवाल यह है कि उन प्राचीन इमारतों का क्या होगा?

वाराणसी में भी कमोबेश यही हाल है। यहां काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर बड़ी संख्या में मंदिर तोड़े गए और अब अयोध्या में 100 से लेकर 500 साल तक के पुराने और ऐतिहासिक मंदिरों को तोड़ने के लिए नोटिस दी जा रही है। वहीं नोटिस पर नगर निगम का बचाव करता हुआ नजर आ रहा है। वहीं साधु-संतों ने सरकार और निगम के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। उनका कहना है कि पुरानी मंदिरें बनारस की पहचान हैं आगर यह मंदिरें ही नहीं रहेंगी तो शहर की पहचान कैसे बचेगी।