सीबीआई मामला: आलोक वर्मा के चार्ज में रहते अस्थाना पर थे 6 केस, तीन महीने में ही बचा केवल एक

23 अक्टूबर को सरकार ने वर्मा और अस्थाना, दोनों ही अफसरों को छुट्टी पर भेज दिया था। दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने और जांच में दखल देने का आरोप लगाया था। जिसके बाद सरकार ने दोनों अफसरों को छुट्टी पर भेज दिया था।

किसी शख्स पर दर्ज केसों पर क्या हालात के भी असर पड़ते हैं? सिर्फ तीन महीने पहले सीबीआई ने बताया था कि स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ 6 मामलों में जांच चल रही है। हालांकि, द इंडियन एक्सप्रेस की ओर से दाखिल आरटीआई के जवाब में सीबीआई ने अब बताया है कि अस्थाना के खिलाफ फिलहाल सिर्फ एक मामले में जांच चल रही है। आरटीआई के जवाब में सीबीआई ने कहा कि अस्थाना के खिलाफ 15 अक्टूबर को एक एफआईआर दर्ज की गई थी। जिसके मुताबिक, उन पर हैदराबाद के व्यापारी सना सतीश बाबू से मोइन कुरैशी केस में 3 करोड़ रुपये की घूस लेने का आरोप है। इसके अलावा, और किसी मामले में अस्थाना के खिलाफ जांच नहीं चल रही।

बता दें कि 21 सितंबर को सीबीआई ने आधिकारिक बयान में कहा था कि अस्थाना के खिलाफ 6 मामलों में जांच चल रही है। उस वक्त सीबीआई की अगुआई आलोक वर्मा कर रहे थे। 10 अक्टूबर को द इंडियन एक्सप्रेस ने आरटीआई दाखिल करके अस्थाना के खिलाफ दर्ज 6 मामलों की जानकारी मांगी थी। 23 अक्टूबर को सरकार ने वर्मा और अस्थाना, दोनों ही अफसरों को छुट्टी पर भेज दिया था। दोनों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने और जांच में दखल देने का आरोप लगाया था। दोनों को उनकी जिम्मेदारियों से तात्कालिक तौर पर मुक्त करते हुए सरकार ने तत्कालीन जॉइंट डायरेक्टर एम नागगेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बनाया था। वर्मा और अस्थाना को हटाए जाने और सरकार के इस मामले में उठाए गए कदम के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है।

इसके 10 दिन बाद ही 2 नवंबर को आरटीआई के जवाब में सीबीआई के सेंट्रल पब्लिक इन्फॉर्मेशन ऑफिसर (CPIO) ने अस्थाना के खिलाफ चल रहे एक केस की जानकारी दी। उनके खिलाफ भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम और आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत केस दर्ज किया गया है। द इंडियन एक्सप्रेस ने आरटीआई ऐक्ट के तहत अपील करते हुए उन 6 केसों की जानकारी मांगते हुए स्पष्टीकरण चाहा। इसके जवाब में 5 दिसंबर को एजेंसी के जॉइंट डायरेक्टर अमित कुमार ने सीपीआईओ के जवाब को ही दोहराया। फिर 14 दिसंबर को द इंडियन एक्सप्रेस ने सीबीआई प्रवक्ता को कुछ सवाल भेजे। इसमें सितंबर के बयान में बताई गई अस्थाना के खिलाफ दर्ज 6 केसों के बारे में पूछा गया। प्रवक्ता ने 17 दिसंबर तक का वक्त मांगा लेकिन अभी तक इस पर जवाब नहीं आया है।

साभार:जनसत्ता