2019 में भाजपा हार सकती है 103 सीटें, अमेरिकी थिंक टैंक का दावा

लोकसभा चुनाव 2019: रिपोर्ट में कहा गया है कि विपक्षी पार्टी कांग्रेस को 63 सीटों का फायदा हो सकता है। उसे कुल 107 सीटें मिल सकती हैं। 2014 में कांग्रेस को देशभर में कुल 44 सीटें मिली थीं।

जनसत्ता ऑनलाइन के अनुसार पांच राज्यों (मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम) के विधान सभा चुनाव के नतीजों के बाद अमेरिकी थिंक टैंक ‘ब्रुकिंग इन्स्टीट्यूशंस’ ने दावा किया है कि अगले साल होने वाले आम चुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बड़ी हार का सामना करना पड़ सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भाजपा देशभर में कुल 103 सीटों पर हार सकती है और उसकी जीत का आंकड़ा 179 सीटों तक सिमट सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा की सहयोगी पार्टियों को भी सीत सीटों का नुकसान हो सकता है और वो 28 सीटों पर सिमट सकती हैं। 2014 के चुनाव में भाजपा को कुल 282 सीटें मिली थीं। उस वक्त भाजपा के सहयोगी दलों ने कुल 54 सीटें जीती थीं लेकिन उनमें से कई सहयोगी दल अब एनडीए छोड़ चुके हैं। ब्रूकिंग्स इंस्टीट्यूशन ने पिछले विधानसभा चुनावों के वोटिंग पैटर्न और मौजूदा लोकसभा सीटों के गणितीय गुणा भाग के आधार पर यह आंकलन निकाला है।

हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि विपक्षी पार्टी कांग्रेस को 63 सीटों का फायदा हो सकता है। उसे कुल 107 सीटें मिल सकती हैं। 2014 में कांग्रेस को देशभर में कुल 44 सीटें मिली थीं। कांग्रेस के सहयोगी दलों को भी आगामी चुनाव में फायदा होने के आसार हैं। रिपोर्ट में उन्हें 38 सीटों का लाभ होता हुआ बताया गया है। यानी कांग्रेस के सहयोगी दलों को कुल 56 सीटें मिल सकती हैं। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों को लाभ होने के बावजूद कुल 163 सीटें ही मिल सकती हैं जो बहुमत के आंकड़े (272) से दूर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि गैर कांग्रेसी, गैर भाजपाई मोर्चा किंगमेकर की भूमिका में रह सकता है। उसे 9 सीटों का लाभ हो सकता है और कुल 172 सीटें मिल सकती हैं।

बता दें कि फिलहाल तृणमूल कांग्रेस, एआईएडीएमके, टीआरएस, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, बीजू जनता दल किसी भी गठबंधन में शामिल नहीं हैं और ये दल 2019 में सरकार बनाने में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। इन दलों को 172 सीटें मिलती हुई बताई गई हैं। रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा और उसके गठबंधन को कुल 207 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जो बहुमत के आंकड़े से 65 कम है। थिंक टैंक ने अपनी रिपोर्ट में भाजपा को सबसे ज्यादा नुकसान गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार में होने का अनुमान लगाया है।