यूपी सीएम के कार्यक्रम में युवाओं का हंगामा, योगी पर फेंके गए रुमाल और तौलिये

उपद्रवी युवाओं ने कार्यक्रम स्थल पर रखी गईं कुर्सियां तोड़ दीं और उन पर लगे कपड़े मंच की तरफ उछाले। युवा इस दौरान नारेबाजी भी करते रहे।

जनसत्ता ऑनलाइन की खबर के मुताबिक उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के गाजीपुर में हुए एक कार्यक्रम में कुछ युवाओं द्वारा हंगामा करने की खबर सामने आयी है। इस दौरान उपद्रवी युवाओं ने कार्यक्रम स्थल में रखी गई कुर्सियों में तोड़-फोड़ की और मंच की तरफ कुर्सी पर लगे कपड़े उतारकर उछालना शुरु कर दिया। कार्यक्रम में नारेबाजी और उपद्रव होते देख सीएम योगी भी 5 मिनट में ही अपना भाषण खत्म कर चले गए। खबर के अनुसार, शनिवार को योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के गाजीपुर पहुंचे थे। इस दौरान उन्हें गाजीपुर के स्वामी सहजानंद डिग्री कॉलेज में एक रोजगार मेले का उद्घाटन करना था। इस कार्यक्रम के दौरान युवाओं को नौकरी के लिए पंजीकरण किया जा रहा था। इसी दौरान पंजीकरण ना होने से कुछ युवा नाराज थे और जैसे ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंच से बोलना शुरु किया तो युवाओं ने हंगामा शुरु कर दिया।

उपद्रवी युवाओं ने कार्यक्रम स्थल पर रखी गईं कुर्सियां तोड़ दीं और उन पर लगे कपड़े मंच की तरफ उछाले, जहां सीएम भाषण दे रहे थे। युवा इस दौरान नारेबाजी भी करते रहे। पुलिस इस दौरान हंगामे को शांत करने की कोशिश करती रही। आखिरकार हंगामा होते देख सीएम योगी भी 5 मिनट में अपना भाषण खत्म कर जाने लगे। जिस पर आयोजकों ने भी सिर्फ 2 लोगों को सीएम के हाथों नियुक्ति पत्र दिलाकर कार्यक्रम समाप्त कर दिया। सीएम योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम से जाते ही उपद्रव तेज हो गया। इस दौरान हंगामा कर रहे युवाओं ने रोजगार मेले में लगे कई कंपनियों के स्टॉलों में तोड़फोड़ की। कार्यक्रम स्थल पर इस दौरान ईंट पत्थर भी फेंके गए। इस दौरान कुछ लोग मामूली रुप से चोटिल भी हुए।

वहीं इस पूरे हंगामे के बाद पुलिस मूकदर्शक बनी रही और उसकी पूरी सुरक्षा तैयारियां नाकाफी साबित हुईं। एक अधिकारी ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि कार्यक्रम में 5000-6000 युवाओं के हिसाब से इंतजाम किए गए थे, लेकिन कार्यक्रम में 30,000 के करीब युवा पहुंच गए। इतनी बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने से कार्यक्रम में अव्यवस्था व्याप्त हो गई। बता दें कि इस रोजगार मेले का आयोजन सरकार के स्किल डेवलेपमेंट मंत्रालय द्वारा किया गया था। कार्यक्रम में मौजूद रहे केन्द्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि यह घटना कुछ असामाजिक तत्वों की कारस्तानी थी, जो माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। वहीं इस हंगामे पर पुलिस का कहना है कि उन्हें इस संदर्भ में अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है, शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।