गुजरात: पीएम मोदी के लाइव इवेंट से लिया सबक, सीएम विजय रुपाणी की ‘लाइव चर्चा’ के लिए पहले से तय थे सवाल, जवाब देने वालों के नाम भी

लाइव बातचीत में सवाल पूछने से लेकर जवाब देने तक सब पहले से तय था। लोगों ने भी निर्धारित गाइडलाइंस के तहत सरकार के कामकाज का रटा-रटाया फीडबैक दिया और नए प्रॉजेक्ट्स के बारे में सवाल किए।

गुजरात के सीएम रुपाणी के ‘लाइव चर्चा’ की स्क्रिप्ट पहले से तैयार थी.

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक पीएम मोदी की नमो एप पर लाइव इवेंट में हुई किरकिरी से बीजेपी के नेता जनता से लाइव संवाद के दौरान खास एहतियात बरत रहे हैं। इसी के मद्देनज़र गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की पहली ‘लाइव चर्चा’ में लोगों के सवाल-जवाब पहले से तय कर लिए गए थे। मंगलवार को प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन के मौके पर सीएम रुपाणी ने गांधी नगर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 666 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने 21 जिलों के छात्र, शिक्षक, अभिभावक और आगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से लाइव बातचीत की।

जानकारी के मुताबिक लाइव बातचीत में सवाल पूछने से लेकर जवाब देने तक सब पहले से तय था। लोगों ने भी निर्धारित गाइडलाइंस के तहत सरकार के कामकाज का रटा-रटाया फीडबैक दिया और नए प्रॉजेक्ट्स के बारे में सवाल किए। लाइव वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के मुख्यमंत्री ने 1.5 लाख से अधिक लोगों से संपर्क स्थापित किया।

लोगों को संबोधित करते हुए सीएम रुपाणी ने अपने कार्यकाल के दौरान हुए विकास कार्यों के बारे में बताया। हालांकि, इस दौरान उन्होंने विपक्षी दल कांग्रेस को भी कोसने में कोई कोताही नहीं बरती। रुपाणी ने कहा कि कई परियोजनाओं के पूरा नहीं होने के लिए पूर्व में कांग्रेस की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने बताया कि उनकी सरकार निर्धारित समय-सीमा के भीतर अपना काम कर रही है। सभी प्रॉजेक्ट्स अपनी डेडलाइन के तहत पूरे किए जा रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि उनके शासनकाल में व्यवस्था पारदर्शी और घोटालों से मुक्त है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाइव बातचीत के दौरान फजीहत झेलनी पड़ी थी। बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत में पुडुचेरी के एक कार्यकर्ता ने जनता के संदर्भ में केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों को ही कटघरे में खड़ा कर दिया था।