मीडया का सच: भ्रष्टाचार मिटाने की बात करने वाली सरकार का विज्ञापनों में भ्रष्टाचार

संजय कुमार सिंह

मंत्रियों के स्टिंग की खबर छापने वाले 4 PM के संपादक ने लिखा है, ..यूपी के सूचना निदेशक ने हमारे रिपोर्टर से कहा कि इस तरह की ख़बरें छापेंगे तो हम एड नही दे पायेंगे .. 4 PM इकलौता ऐसा अख़बार है जिसको दो साल मे पचास हजार का भी एड नही दिया गया . हमको बताया गया कि क्या छापे तो कितने करोड़ का एड मिल जायेगा .. पहले पेज पर क्या छापे और क्या ना छापे ..।

यह एक तथ्य है और आज जागरण में पहले पन्ने पर झारखंड सरकार का यह विज्ञापन है। दूसरे अखबारों में भी है। जागरण में खबरों के पहले पन्ने पर यूपी की खबर नहीं है। हालांकि वहां कमर्शियल विज्ञापन कम नहीं हैं। झारंखड की भाजपा सरकार ने इस विज्ञापन में लिखा है, रघुवर सरकार ने 4 साल में झारखंड के विकास के लिए क्या किया? ये बताना हमारा कर्तव्य है और जानना आपका अधिकार।

पर रघुवर दास को शायद यह पता नहीं है और किसी ने बताया भी नहीं कि अपना कर्तव्य जनता के पैसे से विज्ञापन देकर नहीं निभाया जाता है और ना चुनिन्दा अखबारों को विज्ञापन देकर …. बल्कि इसके लिए पारदर्शिता की नीति होनी चाहिए। आरटीआई का पालन होना चाहिए और खिलाफ खबर छापने वालों को भी सरकारी विज्ञापन मिलने चाहिए। भ्रष्टाचार मिटाने की बात करने वाली सरकार विज्ञापनों में खुलेआम भ्रष्टाचार करती है।
साभार: वरिष्ठ पत्रकार और अनुवादक संजय कुमार सिंह की रिपोर्ट। स्रोत- भड़ास4मीडिया