सबरीमाला विवाद: आरएसएस जिला प्रचारक ने पुलिस थाने में फेंके बम, सामने आई सीसीटीवी फुटेज

दो जनवरी को भगवान अयप्पा के मंदिर में रजस्वला आयु वर्ग की दो महिलाओं के पूजा करने के बाद से भाजपा-आरएसएस एवं दक्षिणपंथी संगठनों के केरल में हिंसक प्रदर्शन जारी हैं।

सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के विरोध में शनिवार (5 जनवरी, 2018) को भी भाजपा-आरएसएस और सत्तारूढ़ माकपा कार्यकर्ताओं की हिंसा में राजनीतिक रूप से संवेदनशील उत्तरी केरल का कन्नूर जिला झुलसता रहा। प्रतिद्वंद्वी नेताओं और कार्यकर्ताओं की कई दुकानों और घरों पर हमला किया गया। इसी कड़ी में अब आरएसएस के जिला प्रचारक का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है। फुटेज में नजर आ रहा है कि आरएसएस प्रचारक नेदुमंगद पुलिस स्टेशन में बम से हमला कर रहा है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस हमले में कम से कम पांच लोग घायल हो गए। करीब एक मिनट की इस फुटेज में नजर आ रहा है कि शख्स हाथ में बम लेकर पुलिस स्टेशन पर फेंक रहा है। उसके साथ कुछ लोग और भी नजर आ रहे हैं। शख्स कई बार बम फेंकता था।

वहीं पुलिस ने बताया कि माकपा विधायक ए एन शमसीर के मदापीडिकाइल, भाजपा नेता एवं राज्यसभा सांसद वी मुरलीधरन के वदियिल पीड़िकिया और माकपा के कन्नूर जिला के पूर्व सचिव पी शशि के तलासेरी स्थित घरों समेत कई जगह पर शनिवार तड़के बम फेंके गए। इन घटनाओं में किसी के घायल होने की खबर नहीं है। भाजपा सांसद के पैतृक घर पर हमले से कुछ ही घंटे पहले शमशीर एवं शशि के घरों पर देशी बम फेंके गए थे जब मार्क्सवादी पार्टी और भाजपा-आरएसएस के नेता यहां एक शांति बैठक में शामिल होने आए थे। सामान्य जनजीवन को प्रभावित करने वाले ये हमले इस संवेदनशील जिले में करीब एक साल के अंतर पर फिर से बड़े पैमाने पर हो रही राजनीतिक हिंसा को दिखाते हैं।

देखें वीडियो-

जानना चाहिए कि दो जनवरी को भगवान अयप्पा के मंदिर में रजस्वला आयु वर्ग की दो महिलाओं के पूजा करने के बाद से भाजपा-आरएसएस एवं दक्षिणपंथी संगठनों के केरल में हिंसक प्रदर्शन जारी हैं। कन्नूर के अलावा कोझिकोड के पेराम्बरा, मल्लपुरम और पथनमथिट्टा के अडूर में भी शुक्रवार की रात एवं शनिवार तड़के इस तरह के कई हमले एवं तोड़फोड़ हुई कन्नूर एवं अन्य स्थानों पर जारी हिंसा को देखते हए राज्य पुलिस प्रमुख लोकनाथ बहेरा ने राज्य भर में अलर्ट जारी किया है और पार्टी नेताओं के घरों पर हमले के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। (जनसत्ता ऑनलाइन इनपुट सहित)