रेलवे: पांच साल तक रेलवे में खाली रखे 2.83 लाख पद, अब नींद से जागे! चिदंबरम ने बताया- एक और जुमला

बेरोजगारों को नौकरी देने के मामले में नरेंद्र मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर रही है क्योंकि 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था।

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने रेल मंत्री पीयूष गोयल द्वारा चार लाख नौकरियों के अवसर की बात को एक और जुमला करार दिया है। चिदंबरम ने कहा है कि पांच साल तक नींद में रहने के बाद भाजपा सरकार अचानक चुनावी घंटी बजते ही नींद से जाग उठी है। उन्होंने ट्वीट किया, “रेलवे ने करीब 5 वर्षों तक 2,82,976 पदों को खाली रखा और अब अचानक नींद से जागते हुए कहा कि हम 3 महीने में इन पदों को भर देंगे! एक और जुमला! इस सरकार में दूसरे विभागों की भी लगभग यही कहानी है। एक तरफ पद खाली पड़े हैं, तो दूसरी तरफ युवा बेरोजगार खड़े हैं।” बता दें कि बेरोजगारों को नौकरी देने के मामले में नरेंद्र मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर रही है क्योंकि 2014 के चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक दिन पहले ही बुधवार (23 जनवरी) को कहा था कि 2021 तक रेलवे लगभग चार लाख लोगों को नौकरियां देगा। उन्होंने कांग्रेस पर हमलावर रुख अख्तियार करते हुए ट्वीट किया, “2014 से लगातार नई नौकरियों में ग्रोथ बढ रही है, यह उनके सर्वे रिपोर्ट से पता चलता है, जो झूठा प्रचार चल रहा है, यह उसको नकारता है और बताता है कि देश में नौकरियों की स्थिति लगातार सुधर रही है।” उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा, “रेलवे समय-समय पर नौकरियों के अवसर देता ही है, सर्वे दर्शाता है कि अगले 6 महीनों में नौकरियां बड़े पैमाने पर आने वाली हैं, जिसमे 56% कहते हैं कि यह नई जॉब होंगी। आज देश में 22 रेल सेवाओं के विस्तार को मंजूरी देने तथा देश और रेलवे में नौकरियों के बढते अवसर के संबंध में संवाददाताओं के साथ बातचीत की, अकेले रेलवे में हमने 4 लाख नौकरियों के अवसरों को मंजूरी दी है।”

गोयल ने कहा, “पिछले साल हमने 1.5 लाख लोगों को नौकरी देने का काम शुरू किया था। उसके बावजूद आज भी लगभग 1.25 लाख- 1.32 लाख लोगों की जरूरत रेलवे में है। इसके अलावा अगले 2 वर्ष का जब आकलन करते हैं तो लगभग 1 लाख लोगों के अगले 2 वर्ष में रिटायर होने का अनुमानित आंकड़ा है। यानि सवा दो से ढाई लाख लोगों को और अधिक मौका मिलेगा। ड़ेढ लाख लोगों की भर्ती का काम अभी चल रहा है। एक प्रकार से चार लाख नौकरियां रेलवे अकेले देने जा रहा है।” बता दें कि रेलवे में चतुर्थ श्रेणी और तीसरी श्रेणी की कुछ नौकरियों के लिए फिलहाल भर्ती प्रक्रिया चल रही है।