अर्थव्यवस्था: देश में इस वित्त वर्ष 11 फीसदी घटा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश

देश में चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल- सितंबर 2018-19) में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 11 फीसदी कम रहा. 2017-18 के अप्रैल- सितंबर की तुलना में एफडीआई 11 फीसदी घटकर 22.66 अरब डॉलर रहा.

यह जानकारी वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों में दी गई है. आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-सितंबर अवधि में 25.35 अरब डॉलर एफडीआई देश में आया.

चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में सबसे अधिक एफडीआई सेवा क्षेत्र में 4.91 अरब डॉलर रहा. इसके बाद कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में 2.54 अरब डॉलर, दूरसंचार में 2.17 अरब डॉलर, व्यापार क्षेत्र में 2.14 अरब डॉलर, रसायन में 1.6 अरब डॉलर और वाहन क्षेत्र में 1.59 अरब डॉलर का एफडीआई आया.

अप्रैल- सितंबर 2018-19 अवधि में सबसे अधिक एफडीआई 8.62 अरब डॉलर सिंगापुर से आया. इसके बाद मॉरीशस से 3.88 अरब डॉलर, नीदरलैंड से 2.31 अरब डॉलर, जापान से 1.88 अरब डॉलर, अमेरिका से 97 करोड़ डॉलर और ब्रिटेन से 84.5 करोड़ डॉलर का निवेश देश में किया गया.

विदेशी पूंजी का निवेश गिरने से देश के भुगतान संतुलन पर दबाव पड़ सकता है. यह रुपये के मूल्य को भी प्रभावित करता है.