पुलवामा आतंकी हमला: जम्मू कश्मीर राज्यपाल ने मानी अपनी गलती, कहा- खुफिया एजेंसियों से हुई चूक

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर गुरूवार को हुए आतंकी हमले में राज्य के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने कबूल किया है कि खुफिया एजेंसियों की चूक के चलते इस तरह का हमला करने में आतंकी कामयाब रहे।

नवजीवन के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले को लेकर प्रदेश के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने खुफिया एजेंसियों से चूक की बात कबूल की है। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ अखबार को दिए इंटरव्‍यू में सत्‍यपाल मलिक ने कहा, “हम हाईवे पर घूम रही विस्‍फोटकों से भरी गाड़ी को पहचान करने में असफल रहे। हमें यह बात कबूल करनी होगी कि हमसे भी चूक हुई है। गाड़ी में आत्‍मघाती हमलावर सवार थे, यह जानकारी नहीं होना हमारे लिए चूक है।”

उन्होंने आगे कहा, “यह मैं स्‍वीकार करता हूं। हमलावर आदिल अहमद डार हमारे संदिग्‍धों की लिस्‍ट में सबसे उपर पर था। इन लोगों को कोई भी अपने घर में शरण नहीं दे रहा था। इसलिए ये जंगल या पहाडि़यों में जाकर छिपे थे। हम आदिल के बारे में जानते थे, लेकिन हम उसका पकड़ नहीं पाए।”

सत्यपाल मलिक ने पुलवामा हमले को सीमा पार बैठे आतंकियों के आकाओं की ‘खींझ’ करार दिया है। उन्होंने कहा, “आतंकियों पर पाकिस्तान की तरफ से कुछ बड़ा करने का दबाव था। यह हमला उसी हड़बड़ी का परिणाम है।”

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरूवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले में 44 जवान शहीद हो गए हैं। अधिकारियों ने बताया कि दो घायल जवानों के दम तोड़ने के बाद मृतकों की संख्या 44 हो गई। वहीं, 38 जवान घायल हैं। पुलवामा जिले में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर यह हमला गुरुवार 3.15 बजे हुआ। जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदी एसयूवी सीआरपीएफ की बस से टकरा दी और उसमें विस्फोट कर दिया। जम्मू-कश्मीर में 1989 में आतंकवाद के सिर उठाने के बाद से यह सबसे भयावह आतंकी हमला है।