बालाकोट में वायुसेना की बड़ी कार्रवाई, चीन ने कहा- संयम बरतें भारत-पाकिस्‍तान

चीन ने मंगलवार को भारत और पाकिस्तान से ‘संयम बरतने’ का आह्वान किया और नयी दिल्ली से आतंकवाद के खिलाफ अपनी लड़ाई अंतरराष्ट्रीय सहयोग के जरिए जारी रखने को कहा।

चीन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा ‘‘मैं कहना चाहता हूं कि भारत और पाकिस्तान दक्षिण एशिया में दो महत्वपूर्ण देश है। दोनों के बीच मधुर संबंध और सहयोग दोनों देशों के हित में है और दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिए भी अहम है।’’

चीन ने मंगलवार को भारत और पाकिस्तान से ‘संयम बरतने’ का आह्वान किया और नयी दिल्ली से आतंकवाद के खिलाफ अपनी लड़ाई अंतरराष्ट्रीय सहयोग के जरिए जारी रखने को कहा। चीन की यह टिप्पणी तड़के पाकिस्तान में आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े शिविर पर भारतीय लड़ाकू विमानों के हमले के कुछ घंटे बाद आई है। पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर भारत के हवाई हमलों के संबंध में चीन की प्रतिक्रिया पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने यहां मीडिया से कहा, ‘‘हमने संबंधित खबरों को देखा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहना चाहता हूं कि भारत और पाकिस्तान दक्षिण एशिया में दो महत्वपूर्ण देश है। दोनों के बीच मधुर संबंध और सहयोग दोनों देशों के हित में है और दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिए भी अहम है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि भारत और पाकिस्तान संयम बरतेंगे तथा अपने द्विपक्षीय रिश्तों को परस्पर और मजबूत करेंगे।’’

बता दें कि रूस, भारत और चीन (आर आई सी) के विदेश मंत्रियों की यहां बुधवार को होने जा रही बैठक में पुलवामा आतंकी हमले और पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने का मुद्दा प्रमुखता से उठ सकता है। वार्षिक त्रिपक्षीय बैठक में शामिल होने के साथ ही विदेश मंत्री सुषमा स्वराज रूस और चीन के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठक भी करेंगी। आर आई सी विदेश मंत्रियों की बैठक में अजहर को संयुक्त राष्ट्र की 1267 समिति द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित करने का मुद्दा उठने की उम्मीद है।

चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ स्वराज की बैठक का काफी महत्व है क्योंकि पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच यह पहला उच्चस्तरीय संवाद है। वीटो शक्ति प्राप्त चीन अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के भारत, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के प्रयासों में वर्ष 2016 से बार-बार अड़ंगा लगाता रहा है, लेकिन इसने पुलवामा आतंकी हमले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा जारी कड़े बयान का समर्थन किया था।

अजहर को संयुक्त राष्ट्र से वैश्विक आतंकी घोषित कराने का मुद्दा 1267 समिति के समक्ष पुन: उठने की उम्मीद है क्योंकि वीटो प्राप्त फ्रांस ने कहा है कि वह इस संबंध में दोबारा प्रस्ताव लाएगा। यह मुद्दा रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ स्वराज की बैठक में भी प्रमुखता से उठने की उम्मीद है। यह आर आई सी विदेश मंत्रियों की 16वीं बैठक है।