अडानी समूह के हवाले देश के 5 बड़े एयरपोर्ट, 50 साल के लिए मिला ठेका

पीएम मोदी के करीबी माने जाने वाले उद्योगपति गौतम अडानी की कंपनी अडानी समूह को देश के पांच बड़े एयरपोर्ट को अपग्रेड और ऑपरेट करने का ठेका मिला है। अब 50 साल के लिए लखनऊ, जयपुर, अहमदाबाद, मेंगलुरु और त्रिवेंद्रम एयरपोर्ट अडानी ग्रुप के नाम हो गए हैं।

नवजीवन के अनुसार अब देश के 5 बड़े एयरपोर्ट चलाने की सारी जिम्मेदारी देश के चर्चित उद्योगपति गौतम अडानी की कंपनी अडानी समूह की होगी। देश के छह हवाईअड्डों के लिए लगाई गई बोलियों में अडानी समूह ने पांच एयरपोर्ट अपने नाम कर लिया है। ये एयरपोर्ट लखनऊ, जयपुर, अहमदाबाद, मेंगलुरु और त्रिवेंद्रम हैं। वहीं छठे एयरपोर्ट गुवाहाटी को लेकर मंगलवार को फैसला आ सकता है। अडानी समूह को 50 साल की अवधि के लिए इन एयरपोर्ट के रखरखाव और संचालन का जिम्मा मिला है। अब ये पूरी तरह से स्पष्ट हो गया है कि अगले 50 साल तक देश के 5 एयरपोर्ट का अपग्रेड और ऑपरेट अडानी ग्रुप करेगा।

अडानी समूह का चयन ‘मंथली पर-पैसेंजर फी’ के आधार पर किया गया है। खबरो के अनुसार अन्य बोलीदाताओं की तुलना में अडानी ग्रुप की बोलियां ‘बहुत आक्रामक’ थीं। इन 6 एयरपोर्ट के लिए 10 कंपनियों की तरफ से कुल 32 तकनीकी बोलियां लगीं। इसमें अहमदाबाद और जयपुर एयरपोर्ट के लिए 7-7 बोलियां, तो लखनऊ और गुवाहाटी एयरपोर्ट के लिए 6-6 और मेंगलुरु और त्रिवेंद्रम एयरपोर्ट के लिए 3-3 बोलियां लगाई गईं। हालांकि इसमें गुवाहाटी एयरपोर्ट का फिलहाल फैसला नहीं हुआ है।

अब बोली के बाद की सारी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद ये एयरपोर्ट अडानी समूह के हवाले कर दिए जाएंगे। बता दें कि बीते साल नवंबर में केंद्र की मोदी सरकार ने एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया दवारा संचालित 6 हवाईअड्डों के प्रबंधन के लिए पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) की प्रक्रिया के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इस नीलामी प्रक्रिया में अडानी ग्रुप के अलावा पीएनसी इंफ्रा, कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट, जीएमआर, आई-इन्‍वेस्‍टमेंट और दूसरी कुछ कंपनियां भी शामिल थीं।

इन ठेकों के साथ ही अडानी ग्रुप का एविएशन इंडस्ट्री में भी प्रवेश हो जाएगा। अडानी समूह पिछले लंबे समय से एयरपोर्ट बिजनस में कदम रखने के लिए हाथ-पैर मार रहा था। इसके लिए समूह मुंबई एयरपोर्ट में जीवीके की हिस्सेदारी खरीदने के लिए उसके साथ बातचीत कर रही है।