21 विपक्षी दलों ने लापता पायलट पर जताई चिंता, कहा- जांबाज शहीदों पर राजनीति न करे सत्ता दल

21 राजनैतिक दलों ने साझा बयान जारी कर कहा है कि आज 21 दलों का साझा बैठक में 14 फरवरी 2019 के पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी हमले की एक स्वर से कड़ी भर्त्सना की गई। इस बैठक में सभी शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई और सेना के साथ एकजुटता का संकल्प दोहराया गया।

नवजीवन के अनुसार सीमा पर तनावपूर्ण हालात के बीच संसद परिसर में कांग्रेस समेत 21 विपक्षी दलों की बैठक हुई। 21 राजनैतिक दलों ने साझा बयान जारी कर कहा है कि बैठक में 14 फरवरी 2019 के पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी हमले की एक स्वर से कड़ी भर्त्सना की गई। इस बैठक में सभी शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई और सेना के साथ एकजुटता का संकल्प दोहराया गया। इतना ही नहीं बैठक में सभी दलों ने एक सुर में कहा कि सत्ता दल को जवानों की शहादत पर राजनीति बंद करनी चाहिए।

21 राजनैतिक दलों ने साझा बयान जारी कर कहा है कि बैठक में 14 फरवरी 2019 के पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी हमले की एक स्वर से कड़ी भर्त्सना की गई। इस बैठक में सभी शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई और सेना के साथ एकजुटता का संकल्प दोहराया गया।

21 दलों की बैठक में सत्ताधारी दल द्वारा सुरक्षाबलों की शहादत का राजनीतिकरण करने किए जाने की कड़ी निंदा की। सभी दलों ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा का स्थान राजनैतिक स्वार्थ से ऊपर है। और सभी दलों के नेताओं ने पुलवामा हमले के बाद पीएम मोदी द्वारा सर्वदलीय बैठक नहीं बुलाने जाने पर निराशा व्यक्त करते हुए कहा कि यह लोकतंत्र की स्थापित मन्याताओं के खिलाफ है। सभी दलों ने आज विदेश मंत्रालय द्वारा जारी उस बयान का संज्ञान लिया जिसमें पाकिस्तान द्वारा भारत के सैन्य ठिकानों पर हमला करने और एक लड़ाकू विमान के क्रैश या ध्वस्त होने की बात कही गई है। सभी नेताओं ने पाकिस्तान के इस दुस्साहस की कड़ी निंदा करते हुए भारतीय वायुसेना की पायलट की सुरक्षा को लेकर गंभी चिंता जताई। सभी नेताओं ने सरकार से देश की संप्रभुता और एकता के लिए उठाए जाने वाले हर कदम पर राष्ट्र को विश्वास में लेने की अपील की।

बैठक खत्म होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, “सभी दलों ने बीजेपी द्वारा शहीदों पर राजनीति को लेकर गुस्सा जाहिर किया है।

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा, “सरकार आईएएफ के लापता पायलट को सुरक्षित वापस लाए। पार्टी ने कहा कि हमें यह सुनकर दुख पहुंचा है कि पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई में आईएएफ का एक पायलट लापता हो गया है।”

बैठक की शुरुआत में सभी विपक्षी दलों के नेताओं ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी।

बता दें कि संसद की लाइब्रेरी बिल्डिंग में हुई इस बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू, तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और कई अन्य विपक्षी दलों के नेता शामिल हुए।