बालाकोट हमला: हवाई हमले के एक सप्ताह पहले से जैश मदरसे की सुरक्षा में तैनात थी पाकिस्तानी फौज

इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक ख़बर के मुताबिक़ 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक के कुछ घंटों अंदर पाकिस्तान सेना इलाके में जैश-ए-मोहम्मद के मदरसे से छात्रों को निकाला था और घर भेजने से पहले कुछ दिनों तक एक सेफ हाउस में रखा था.

अख़बार लिखता है कि मदरसे में मौजूद एक छात्र के रिश्तेदार ने उन्हें ये जानकारी दी है. हवाई हमले का निशाना रहे जैश-ए-मोहम्मद के इस तलीम-उल-कुरान नाम के मदरसे से पहली बार सीधे किसी छात्र के हवाले से जानकारी सामने आई है.

बालाकोट के जाबा स्थित जैश के इस कथित प्रमुख ठिकाने को 26 फरवरी को हुई भारतीय हवाई हमले का निशाना बताया जा रहा है.

ख़बर के अनुसार छात्र के रिश्तेदार ने ये भी बताया है कि हवाई हमले से एक हफ़्ते या उससे ज़्यादा वक्त से पाक सेना उस मदरसे की सुरक्षा में लगी थी. अखबार के मुताबिक छात्र ने अपने परिवार वालों को बताया कि 26 फरवरी को तड़के वो कुछ और लोगों के साथ मदरसे के उसी कमरे में सो रहा था, जिसमें ‘एक ज़ोरदार धमाके’ की वजह से नुकसान पहुंचा था.

रिश्तेदार ने कहा कि छात्र ने उसे बताया है, “धमाके की आवाज़ बहुत पास से आई थी.”