सर्वे: 2019 में नरेंद्र मोदी की सरकार बनना मुश्किल, एनडीए को 72 सीट का हो सकता है नुकसान

लोकसभा चुनाव 2019: पश्चिम बंगाल में टीएमसी का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। राज्य की 42 सीटों में से मात्र 8 पर ही एनडीए की जीत दिख रही है। टीएमसी 34 सीटों पर जीतती दिख रही है।

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग ने आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर तारीखों की घोषणा कर दी है। पूरे देश में 11 अप्रैल से लेकर 19 मई तक 7 चरणों में चुनाव होंगे। वोटों की गिनती 23 मई को होगी। चुनाव की घोषणा के बाद एक सर्वे में दिखाया जा है कि देश की कुल 543 सीटों में से 41 प्रतिशत सीट अर्थात 264 एनडीए के खाते में, 31 प्रतिशत अर्थात 141 सीट यूपीए के खाते में और 28 प्रतिशत अर्थात 138 अन्य के खाते में जाती दिख रही है। बता दें कि सरकार बनाने के लिए कुल 272 सीटों की जरूरत होगी। ऐसे में यह साफ अनुमान लगाया जा सकता है कि किसी भी गठबंधन को पूर्ण बहुमत नहीं मिलता नहीं दिख रहा है। सरकार बनाने के लिए अन्य पार्टियों के सहयोग की जरूरत होगी।

एबीपी-सी वोटर सर्वे के अनुसार, उत्तर प्रदेश की कुल 80 लोकसभा सीटों में से एनडीए के खाते में 29, यूीपीए के खाते में 4 और गठबंधन (सपा, बसपा, रालोद) के खाते में शेष 47 सीटें जा सकती है। बिहार में एनडीए को काफी बढ़त मिलता दिख रहा है। यहां की 40 सीटों में से 36 एनडीए और 4 यूपीए के खाते में जाती दिख रही है। इस तरह इन दो बड़े राज्यों की कुल 120 लोकसभा सीटों में से 65 एनडीए, 8 यूपीए और 47 पर अन्य पार्टियों की जीत की संभावना है।

महाराष्ट्र में एनडीए को बड़ी बढ़त मिलती दिख रही है। राज्य में शिवसेना और भाजपा का गठबंधन है। दूसरी ओर कांग्रेस तथा राकंपा साथ में है। एनडीए 35 और यूपीए 13 सीटों पर विजयी होती दिख रही है। पश्चिम बंगाल में टीएमसी का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। राज्य की 42 सीटों में से मात्र 8 पर ही एनडीए की जीत दिख रही है। टीएमसी 34 सीटों पर जीतती दिख रही है। जबकि, यूपीए का खाता तक खुलता नहीं दिख रहा है। झारखंड में एनडीए को भारी नुकसान होता दिख रहा है। यहां की 14 सीटों में से 3 पर एनडीए, 10 पर यूपीए और एक सीट पर अन्य पार्टी की जीत होती दिख रही है। बात पूर्वोत्तर भारत के असम सहित आठ राज्यों की करें तो यहां की कुल 25 सीटों में से 13 एनडीए, 10 यूपीए और 2 अन्य के खाते में जाते दिख रही है।

मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 24 पर एनडीए और 5 पर यूपीए की जीत होती दिख रही है। छत्तीसगढ़ में भी भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरती दिख रही है। यहां एनडीए को 6 और यूपीए को 5 सीटें मिलती दिख रही है। ओडिशा की 21 सीटों में से एनडीए 12 और बीजद 9 सीटों पर जीतती दिख रही है। यूपीए का खाता खुलने पर संशय है। राजस्थान की कुल 25 सीटों में से 20 एनडीए और 5 यूपीए के खाते में जाती दिख रही है। इस तरह से यहां भाजपा को पांच सीटों का नुकसान होता दिख रहा है।

पंजाब में कांग्रेस को फायदा होता दिख रहा है। यहां की कुल 13 सीटों में से 12 सीटों पर कांग्रेस कब्जा कर सकती है। एनडीए के खाते में सिर्फ एक सीट जाती दिख रही है। दिल्ली में सभी 7 सीटें भाजपा के खाते में जाते दिख रही है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का खाता खुलने पर संशय है।