आतंकी अजहर को बचाने वाले चीन से आएगा सेना की बुलेटप्रूफ जैकेट का सामान

SMPP को जब यह कॉन्ट्रैक्ट दिया गया था, तब उसने कच्चा माल यूरोपीय देशों से मंगाने की बात कही थी। लेकिन अब कंपनी कुल कच्चे माल का 40 प्रतिशत चीन से मंगा रही है।

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक जैश-ए-मोहम्मद का सरगना और खूंखार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने की भारत की कोशिशों में चीन अड़ंगा डाल रहा है। मसूद अजहर भारत में कई आतंकी हमलों का मास्टमाइंड है और बीते दिनों पुलवामा आतंकी हमले की जिम्मेदारी भी जैश ए मोहम्मद ने ही ली है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय सेना के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट सप्लाई करने का कॉन्ट्रैक्ट जिस कंपनी को दिया गया है, वह कच्चा माल चीन की कंपनियों से ही मंगा रही है। दरअसल भारतीय सेना द्वारा लंबे समय से बुलेटप्रूफ जैकेट्स की मांग की जा रही है। कुछ समय पहले ही केन्द्र सरकार ने बुलेट प्रूफ जैकेट की खरीद को हरी झंडी दी थी। इस सौदे के तहत सेना को 1,80,000 बुलेटप्रूफ जैकेट मिलनी हैं। सरकार ने यह कॉन्ट्रैक्ट SMPP नामक कंपनी को दिया है।

इकोनोमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, जिस कंपनी SMPP को बुलेटप्रूफ जैकेट सप्लाई करने का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है, वह चीन से कच्चा माल मंगा रही है। SMPP को जब यह कॉन्ट्रैक्ट दिया गया था, तब उसने कच्चा माल यूरोपीय देशों से मंगाने की बात कही थी। लेकिन अब कंपनी कुल कच्चे माल का 40 प्रतिशत चीन से मंगा रही है। हालांकि कंपनी ने दावा किया है कि उसके प्रोडक्ट की क्वालिटी में इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। बता दें कि बुलेटप्रूफ जैकेट का यह सौदा करीब 639 करोड़ रुपए का है। इस सौदे के तहत अप्रैल, 2019 तक 10,000 जैकेटों का पहला बैच सेना को मिल जाएगा।

खबर के अनुसार, SMPP कंपनी ने चीन से जो कच्चा माल मंगाया है, उसमें फैब्रिक और बोरोन कार्बाइड शामिल है, जिसे बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने में इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं जब इस बारे में कंपनी से सवाल किया गया तो कंपनी के कार्यकारी निदेशक आशीष कंसल ने इकोनोमिक टाइम्स को बताया कि इससे जैकेट्स की क्वालिटी में कोई कमी नहीं आएगी। यह कदम लागत में कमी के उद्देश्य से उठाया गया है। उन्होंने बताया कि यूरोपीय और अमेरिकी कंपनी भी चीन की कंपनियों से ही कच्चा माल मंगाकर सप्लाई करने वाली थी, इसलिए कंपनी ने सीधे ही चीनी कंपनियों से सौदा करने का फैसला किया है। कंपनी ने बताया कि सप्लायर बदलने की बात की जानकारी सेना को दे दी गई है। वहीं सरकार से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि बुलेटप्रूफ जैकेट मिलने के बाद उनका परीक्षण किया जाएगा। परीक्षण में सफल होने के बाद ही उन्हें भारतीय सेना को दिया जाएगा।