सुप्रीम कोर्ट में मुसलमानों को पाकिस्तान भेजने वाली याचिका खारिज, कोर्ट के सवाल पर वकील का हुआ ये हाल

सुप्रीम कोर्ट ने भारत के मुसलमानों को पाकिस्तान भेजने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया है। सुनवाई के दौरान याचिका पर नाराजगी जताते हुए सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने याचिकाकर्ता के वकील के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास करने की बात कही। इस बात पर वकील मामले की पैरवी करने से पीछे हट गया। सुप्रीम कोर्ट पहले भी इस तरह के मामले में मेघालय हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को जारी कर चुका है नोटिस।

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने भारत के मुसलमानों को पाकिस्तान भेजने संबंधी एक याचिका को शुक्रवार को खारिज कर दिया।यह मामला सुनवाई के लिए जस्टिस रोहिंटन नरीमन और जस्टिस विनीत शरण की पीठ के समक्ष आया था। जज याचिका के विषय के लेकर काफी चिंतित थे। जस्टिस नरीमन ने याचिकाकर्ता के वकील याचिका में किए गए आवेदन को जोर-जोर से पढ़ने को कहा। इसके पास जज ने वकील से कहा, ‘क्या आप वास्तव में इस मुद्दे पर बहस करना चाहते हैं? हम आपकी बात सुनेंगे लेकिन आपके खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित करेंगे।’ इसके बाद वकील ने इस पर बहस करने से हाथ खड़े कर दिए। वकील के जवाब के बाद अदालत ने इस याचिका को खारिज कर दिया।

मालूम हो कि पिछले साल दिसंबर में मेघालय हाईकोर्ट के जस्टिस एसआर सेन ने कहा था कि विभाजन के बाद भारत को हिंदू राष्ट्र बन जाना चाहिए था। जस्टिस सेन ने यह टिप्पणी एक याचिका का निपटारा करने के दौरान की थी। यह याचिका राज्य सरकार की तरफ से एक व्यक्ति को आवास प्रमाण पत्र जारी करने से इनकार करने के बाद की गई थी।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार इस साल फरवरी में सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की पीठ ने मेघालय हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को नोटिस जारी किया था। नोटिस में जस्टिस सेन की टिप्पणी को हटाने को कहा गया था। एडवोकेट सोना खान और अन्य जिन्होंने इस संबंध में शीर्ष याचिका दायर की थी, का कहना था कि जस्टिस सेन का निर्णय कानूनी रूप से त्रुटिपूर्ण और ऐतिहासिक रूप से गलत है।

मालूम हो कि इससे पहले भी आमिर खान, शाहरुख खान और यहां तक कि उपराष्ट्रपति रह चुके हामिद अंसारी को भी पाकिस्तान भेजे जाने की धमकी व विरोध की स्थिति का सामना करना पड़ा है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस पद हैं या आपने आपने जीवन में क्या हासिल किया है। यदि आप मुसलमान हैं और आपने कुछ भी मोदी या भाजपा के खिलाफ बोला तो आपको पाकिस्तान भेजे जाने की धमकियां दी जाती है। लोकसभा सांसद साक्षी महाराज, मध्यप्रदेश से भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय, वीएचपी नेता साध्वी प्राची समेत कई हाई प्रोफाइल भाजपा नेता मुस्लिमों को पाकिस्तान जाने का टिकट बांटते रहे हैं।