देश

हालात: अल्पसंख्यकों के मुद्दों पर मोदी सरकार का दोहरा रवैया?

अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ के मुताबिक सुषमा के ट्वीट को सरकार के अलग-अलग मंत्रियों का समर्थन मिला. पर उनके इस ट्वीट के बाद लोगों ने उन्हें गुरूग्राम में हुई घटना के बारे में भी याद दिलाया, जिस पर सरकार के किसी मंत्री ने तब तक कोई टिप्पणी नहीं की थी. […]

देश

अखबार नामा: पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने कहा, ‘मोदी का भारत’ नहीं है पाकिस्तान, पर यहां के अखबार इसे पचा गए

आज के अखबारों में पाकिस्तान में दो लड़कियों का अपहरण कर उनका धर्म बदलने और इसके विरोध में वहां बड़ी संख्या में एक समुदाय के लोगों के प्रदर्शन की खबर और उसपर भारत की विदेशमंत्री सुषमा स्वराज की कार्रवाई के बाद इसपर पाकिस्तान की टिप्पणी आदि की खबर प्रमुखता से छपी है। अलग-अलग अखबारों ने इसे कैसे प्रकाशित किया है ये देखना दिलचस्प है। आइए पहले समझ लें कि मामला है क्या? फिर देखिए कि इसपर पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने क्या ट्वीट किया और हमारी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने क्या जवाब दिया। इससे आप पूरे मामले को समझ सकेंगे और फिर देखिए कि आपके अखबार ने इसे कैसे छापा है। आगे मैं यह भी बताउंगा कि अल्पसंख्यकों से संबंधित मामलों में हमारी सरकारी और हमारा मीडिया कैसे व्यवहार करता है। […]

अखबारनामा

रवीश की समीक्षा: ये अखबार (दैनिक जागरण) तो भाजपा का परम सेवक है!

हिन्दी के अख़बार हिन्दी के पाठकों की हत्या कर रहे हैं। यह बात भाजपा समर्थकों के लिए भी लागू है और विरोधियों के लिए भी। वे भाजपा को चुनते हैं न कि अख़बार को। इसलिए मैंने कहा था कि आप ढाई महीने तक कोई न्यूज़ चैनल न देखें। मैंने इसके लिए अपवाद नहीं बताए थे बल्कि सभी चैनल न देखने की बात की थी। चैनलों पर चलने वाले प्रोमो पर न जाइये। देखिए देखिए करने के बाद भी आप न देखें। इसी तरह अख़बारों के बारे में सोचें। प्लीज़ आप अख़बार लेना बंद करें। आप पत्रकारिता को समाप्त करने के लिए अपने जेब से 300 रुपया कैसे दे सकते हैं? क्या आप भारत के लोकतंत्र और उसके पाठकों-दर्शकों की हत्या के लिए पैसे दे सकते हैं? […]

देश

सियासी नज़रिया: यूपी में आधी से अधिक सीटों पर ‘एमवाईडी’ गेम चेंजर!

सबका साथ-सबका विकास की बात करने वाली भाजपा भी नहीं चाहती है कि कोई भी बिरादरी उससे दूर रहे। इसी लिए भाजपा ने उत्तर प्रदेश में जिन 28 सीटांे पर अपने प्रत्याशियों की घोषणा की है,वहां जातीय गणित का पूरा ध्यान रखते हुए पिछड़ों और दलितों पर खूब मेहरबानी की गई है। भाजपा ने अब तक घोषित 28 में से 08 सीटों पर अति पिछड़ा वर्ग के, चार सीटों पर दलित और 05 सीटों पर ब्राहमण तथा चार-चार सीटों पर क्षत्रिय एवं जाट नेताओं को टिकट दिया है। एक-एक सीट गुजर और पारसी नेता के खाते में गई है। यहां वाराणसी की भी चर्चा जरूरी है। भले ही यहां अंतिम चरणों में मतदान होना है, लेकिन भाजपा आलाकमान ने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट में ही पीएम मोदी के वाराणसी से चुनाव लड़ने की घोषणा करके उन तमाम अटकलों पर से पर्दा हटा दिया,जिसमें कहा जा रहा था कि मोदी वाराणसी छोड़ सकते हैं। […]

अखबारनामा

अखबार नामा: इंडियन एक्सप्रेस का शीर्षक, हिन्दुस्तान की लीड और टेलीग्राफ की सूचना – मौजा ही मौजा

दक्षिणी राज्यों की कांग्रेस इकाइयों के आग्रह के बाद राहुल गांधी केरल के वायनाड से आमसभा चुनाव लड़ने पर विचार कर सकते हैं। इन इकाइयों का मानना है कि उनकी उम्मीदवारी से क्षेत्र में पार्टी की संभावना मजबूत होगी। (खबर में नहीं है पर, लगभग इसी उम्मीद में नरेन्द्र मोदी 2014 में बनारस से भी चुनाव लड़े थे और अब उसे क्योटो बना रहे हैं)। पार्टी का मानना है कि दक्षिण में भाजपा की स्थिति सबसे नाजुक है और कांग्रेस थोड़े परिश्रम से बड़ी संख्या में सीटें जीत सकती है। […]

अपना प्रदेश

सपा ने किया भूल सुधार, स्टार प्रचारकों में टॉप पर शामिल किया मुलायम सिंह का नाम,

जनसत्ता ऑनलाइन के मुताबिक योगी के तंज के बाद सपा के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में मुलायम सिंह का नाम शामिल। समाजवादी पार्टी ने हाल ही में आगामी लोकसभा चुनावों के लिए अपने स्टार चुनाव […]

देश

केरल: चुनाव से ठीक पहले आरएसएस कार्यकर्ता के घर से हथियार, बम बनाने का सामान बरामद, विस्फोट के बाद खुलासा

केरल के कन्नूर जिले में पुलिस को आरएसएस कार्यकर्ता के घर से 7 तलवारें, एक कुल्हाड़ी और 1 लोहे की छड़ के अलावा भारी मात्रा में बम बनाने का सामान मिला है। पुलिस ने इस […]

देश

दिल्ली एम्स में लगी आग में किसी के हताहत होने की खबर नहीं

दिल्ली एम्स में लगी आग में किसी के हताहत होने की खबर नहीं। मौके पर दमकल की 4 गाड़िंया मौजूद हैं। आग पर काबू पाने की कोशिश जारी है। Delhi Fire Department: Fire broke out […]

नज़रिया

प्रजातंत्र की चाट-पकौड़ी : मोदी पूरे विश्वास के साथ झूठ बोलते हैं, विपक्ष वाले पहले से ही बदरंग हैं!

अर्थव्यवस्था सचमुच बुरे हाल में है, बेरोज़गारी हद से ज्य़ादा है, सरकार आंकड़ों में गोलमाल कर रही है और मोदी पूरे विश्वास के साथ झूठ बोलते हैं। खुद पर, अन्य मंत्रियों पर, भाजपा नेताओं पर लगे आरोपों का मोदी कोई जवाब नहीं देते। पांच साल में एक बार भी वे पत्रकारों के रूबरू नहीं हुए, अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ता के एक सवाल ने उन्हें इतना असहज कर दिया कि ऐसी गोष्ठियों के लिए उन्होंने कार्यकर्ताओं से 48 घंटे पहले सवाल भिजवाने का नियम बनवा लिया। मोदी सवालों से बचते हैं और “चाय वाला” तथा “चौकीदार” जैसे विशेषणों की चाट-पकौड़ी से जनता को भरमाये हुए हैं। हर वर्ग के मतदाताओं का एक बड़ा भाग उनका अंध समर्थन कर रहा है, तो मैं यह मानता हूं कि हम इसी काबिल हैं कि नेता लोग झूठ बोलें, हमें लूटें, रोटी की जगह स्वादिष्ट चाट-पकौड़ी परोस कर हमें भरमाये रखें और हम उन्हें ईश्वर का वरदान मान लें, अपना और देश का सौभाग्य मान लें। […]